सरकार ने लगाया बासमती चावल के Export पर बैन, जानिए क्यों लिया सरकार ने ये बड़ा फैसला

By सचिन

Published on:

Export

Export: आपको बता दें की केंद्र सरकार की तरफ से अब बासमती चावल के Export पर सर्शत प्रतिबंध लगा दिया है और इसीलिए कुछ वक्त पहले ही इसके लिए एक आधिकारिक अधिसूचना जारी कर दी गई है और वही आपको बता दें की इससे पहले केंद्र सरकार की तरफ से 20 जुलाई को गैर-बासमती सफेद चावल के निर्यात पर प्रतिबंध लगाया गया था और सरकार ने यह बड़ा कदम इसीलिए उठाया है क्योकि आगामी त्योहारी मौसम को ध्यान में रखा गया है और घरेलू आपूर्ति बढ़ाने और इनकी खुदरा कीमतें का बूमें रखने के इरादे से इस कदम को उठाया था वही पिछले साल भी सितंबर में टूटे चावल के निर्यात पर प्रतिबंध लगाया गया था।

Export, import export, basmati rice, basmati chaval, basmati chaval export ban, export ban of basmati rice, basmati rice export ban,

यह भी पढ़े – अपने पैसो को इन्वेस्ट करना चाहते है, तो जान लीजिये SBI vs Post Office RD में से कौन है बेहतर

पाकिस्तान को मिलेगी भारत पर बढ़त

Export

सरकार के इस नए फैसले की वजह से 1200 डॉलर प्रति टन से कम कीमत पर अनुबंधित सभी बासमती चावल के Export पर अस्थायी रूप से रोक लगा दी जाएगी और इसीलिए व्यापारियों का कहना है कि इस वजह से पाकिस्तान को भारत पर बढ़त मिल जाएगी और वही वाणिज्य मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार वित्त वर्ष 2022-23 में भारत ने 4.8 अरब डॉलर के बासमती चावल को Export किया था और यह निर्यात 45.6 लाख टन बासमती चावल का था।

यह भी पढ़े – Business idea: ये है एक ऐसा बिज़नेस जिसे कर सकते है कम लागत से शुरू, इससे कर सकते है लाखों की कमाई

Export में गैर-बासमती चावल की हिस्सेदारी

आपको बता दें की खाद्य मंत्रालय की तरफ से पिछले महीने में यह कहा गया था कि देश के कुल चावल निर्यात में गैर-बासमती सफेद चावल की हिस्सेदारी करीब 25 फीसदी है और इसके निर्यात पर प्रतिबंध लगाने के बाद देश में उपभोक्ताओं के लिए कीमतें नीचे लाने में मदद मिल सकेगी और आपको बता दें की गैर-बासमती सफेद चावल के निर्यात पर प्रतिबंध लगाने का फैसला अनाज की बढ़ती हुई कीमतों के बाद उठाया गया था।

जानिए अप्रैल-जून तिमाही में गैर-बासमती सफेद चावल का निर्यात

Export

अप्रैल-जून तिमाही में ही गैर-बासमती सफेद चावल का निर्यात 15.54 लाख टन हो गया था और वही पिछले साल की समान तिमाही में यह 11.55 लाख टन रहा था और आपको बता दें की खरीफ फसल वर्ष 2022-23 में देश का कुल चावल उत्पादन बढ़ सकता है और इसके 13.55 करोड़ टन पर पहुंचने का अनुमान लगाया है और वही एक साल पहले इसका उत्पादन 12.94 करोड़ टन रहा था।

सचिन