भारत में Breast Cancer से महिलाओं की मौत के चौकाने वाले आंकड़े आए सामने, इन लापरवाहियों से बचे कहीं देर न हो जाए

0
55
भारत में Breast Cancer से महिलाओं की मौत के चौकाने वाले आंकड़े आए सामने, इन लापरवाहियों से बचे कहीं देर न हो जाए

Breast Cancer (स्तन कैंसर) : WHO के अनुसार, ब्रेस्ट कैंसर हर साल दुनियाभर में करीब 2.1 मिलियन महिलाओं को प्रभावित करता है। भारत में बीमारियों से होने वाली मौत में 11% (76,000 महिलाओं) मौत केवल ब्रेस्ट कैंसर से होती है। इसका बड़ा कारण भारत में लोगों को ब्रेस्ट कैंसर की सम्पूर्ण जानकारी न होना है। आइए इसके बारे में जानते है…..

Breast Cancer (ब्रेस्ट कैंसर) क्या है?

स्तन कैंसर एक ऐसी स्थिति है जब स्तन कोशिकाएं अनियंत्रित रूप से बढ़ने और फैलने लगती है। स्तन कैंसर की कोशिकाएं एक ट्यूमर बनाती हैं या आप इसे एक गांठ के रूप में भी महसूस कर सकते हैं। आम तौर पर, स्तन के दूध उत्पादक ग्रंथियों (लोब्यूल) या नलिकाओं में कैंसर बनता है, कुछ मामलों में कैंसर कोशिकाएं आपकी बाहों के नीचे लिम्फ नोड्स तक पहुंच सकती हैं और शरीर के विभिन्न हिस्सों में फैल सकती हैं।

यह भी पढ़े :- फिटकरी का एक छोटा सा टुकड़ा आपको कई समस्याओं से छुटकारा दिला सकता है Alum Benefits

ब्रेस्ट कैंसर के प्रकार

यह पुरुषों को भी प्रभावित कर सकता है, हालांकि ऐसे बहुत कम केस होते हैं। मोटे तौर पर स्तन कैंसर के दो प्रकार होते हैं : इन्वेसिव (तेजी से फैलने वाला) और नॉन-इन्वेसिव (धीरे धीरे फैलने वाला)। 80% ब्रेस्ट कैंसर इन्वेसिव डक्टल कार्सिनोमा के कारण होता है। इनके अलावा ब्रेस्ट कैंसर के दो अन्य प्रकार भी हैं, हालांकि ये बहुत दुर्लभ हैं। जैसे कि इन्फ्लेमेटरी ब्रेस्ट कैंसर। इस कैंसर के मामले 1 प्रतिशत से भी कम आते हैं लेकिन यह कैंसर बहुत तेजी से फैलता है और इसमें महिलाओं को मौत का खतरा भी सबसे ज्यादा रहता है। इसके अलावा ब्रेस्ट कैंसर का चौथा प्रकार है पेजेट्स डिजीज। इस कैंसर में निप्पल का एरिया पूरा काला पड़ जाता है। इस तरह का कैंसर 5 प्रतिशत से भी कम होता है।

भारत में Breast Cancer से महिलाओं की मौत के चौकाने वाले आंकड़े आए सामने, इन लापरवाहियों से बचे कहीं देर न हो जाए

ब्रेस्ट कैंसर के लक्षण क्या हैं?

ब्रेस्ट कैंसर के लक्षण ब्रेस्ट कैंसर के प्रकार पर भी निर्भर करते हैं। हालांकि इस कैंसर का सबसे आम संकेत गांठ होता है। लेकिन यह भी ध्यान रखें कि हर गांठ का मतलब कैंसर नहीं होता है। यहां हम स्तन कैंसर के कुछ लक्षण बता रहे हैं:

1. स्तन में कठोर ‘गांठ’ महसूस होना। आमतौर पर ये गांठ दर्द रहित होती हैं।
2. निप्पल से गंदे खून जैसा तरल पदार्थ निकलना
3. स्तन के आकार में परिवर्तन होना
4. अंडरआर्म में गांठ या सूजन आना
5. निप्पल का लाल होना, आदि।

हालांकि, ये लक्षण ब्रेस्ट कैंसर के अलावा किसी और बीमारी के भी हो सकते हैं। इसलिए इस तरह के संकेत दिखने पर तुरंत अपने डॉक्टर से मिलें और जरूरी जांच करवाएं।

भारत में Breast Cancer से महिलाओं की मौत के चौकाने वाले आंकड़े आए सामने, इन लापरवाहियों से बचे कहीं देर न हो जाए

यह भी पढ़े :- सर्दियों में रोज एक खजूर, कई बिमारियों से बचा सकता है Dates (khajur)

ब्रेस्ट कैंसर से बचाव के उपाय

1. वजन को कंट्रोल कर ब्रेस्ट कैंसर से बचा जा सकता है। 30-35 साल की उम्र की महिलाओं को अपने वजन को संतुलित रखना चाहिए।
2. हारवर्ड नर्सेस हेल्थ स्टडी के अनुसार अधिक शराब या स्मोकिंग का सेवन ब्रेस्ट कैंसर के खतरे को बढ़ता है। इसलिए इनसे परहेज रखें।
3. नियमित एक्सरसाइज या फिजिकल एक्टीविटी कर भी ब्रेस्ट कैंसर को कंट्रोल किया जा सकता है। कोशिश करें कि दिन में एक समय, यानि कि सुबह या शाम एक्सरसाइज जरूर करें।
4. अपने लाइफस्टाइल में योग और मेडिटेशन को प्राथमिकता दें। योग और मेडिटेशन करने से ब्रेस्ट कैंसर का खतरा कम होता है।
5. अपनी डाइट को भी संतुलित रखें। अपने खाने में ज्यादा से ज्यादा फल और सब्जियों को शामिल करें। खुद को हाइड्रेट रखने के लिए रोज 8 से 10 ग्लास पानी पीएं।