बैतूल में मुख्यमंत्री को आदिवासी महिला ने बाँधी राखी और कराया भोजन, सीएम ने भोपाल आने का दिया न्योता

By दिगम्बर बर्डे

Published on:

बैतूल में मुख्यमंत्री को आदिवासी महिला ने बाँधी राखी और कराया भोजन, सीएम ने भोपाल आने का दिया न्योता

बैतूल समाचार: बैतूल जिले में पधारे प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बैतूल के विकरमपुर गांव में आदिवासी महिला मंतो बाई सिलूकर के घर खाना खाया। मंतो बाई सिलूकर ने भोजन में मक्का, ज्वारी, बाजरे की रोटी, सरसों का साग, टमाटर की चटनी, बल्लर की सब्जी, चने की भाजी बनाई थी।

मंतो बाई का घर प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत बना है। मंतो को साल 2019-20 में प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत घर बनाने के लिए 1.20 लाख रुपए की सहायता राशि मिली थी। इससे उसने पक्का मकान बना लिया पर अभी रहना शुरू नहीं किया था। उसने मुख्यमंत्री से कहा कि नए घर का फीता काटकर ग्रह प्रवेश कर दें। ​​​​मंतो बाई ने मुख्यमंत्री चौहान को राखी भी बांधी। मुख्यमंत्री ने मंतो को मुख्यमंत्री आवास आने का आमंत्रण भी दिया।

यह भी पढ़े:- मुख्यमंत्री बालिका-बालक स्कूटी योजनान्तर्गत बैतूल जिले के शाहपुर ब्लॉक में 16 टॉपर छात्र- छात्राओं को मिली स्कूटी की राशि

मुख्यमंत्री ने मंतो के नए घर का काटा फीता

मंतो को साल 2019-20 में प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत घर बनाने के लिए 1.20 लाख रुपए की सहायता राशि मिली थी। इससे उसने पक्का मकान बना लिया पर अभी रहना शुरू नहीं किया था। उसने मुख्यमंत्री से कहा कि नए घर का फीता काटकर ग्रह प्रवेश कर दें। ​​​​मंतो बाई ने मुख्यमंत्री चौहान को राखी भी बांधी। मुख्यमंत्री ने मंतो को मुख्यमंत्री आवास आने का आमंत्रण भी दिया।

यह भी पढ़े:- बैतूल के NRI सैम वर्मा की पत्नी चांद पर 10 एकड़ जमीन की है मालकिन, लॉटरी में जीती थी चाँद पर जमीन

मंतो बाई ने बताया किन किन योजनाओ का मिला लाभ

मंतो बाई ने सीएम को बताया कि उन्हें प्रधानमंत्री आवास योजना के साथ-साथ उज्ज्वला योजना के तहत गैस कनेक्शन भी नि:शुल्क मिला है। इससे उन्हें अब खाना बनाने में परेशानी नहीं होती। पहले वह जंगल से लकड़ी लेकर आती थी, लेकिन बरसात में लकड़ी गीली होने के बाद खाना बनाने में काफी परेशानी होती थी। उसे अन्नपूर्णा योजना के तहत हर महीने उचित मूल्य की दुकान से निशुल्क राशन भी मिलता है। मंतो का कहना है कि उसकी नातिन महक को लाड़ली लक्ष्मी योजना का लाभ भी मिला है।

दिगम्बर बर्डे