बेरोज़गारी से मुक्ति दिलायेगा यह औषधीय पौधा! छोटी सी जगह में आज ही शुरू करे इसकी खेती, होगी लाखो में कमाई

By dipu199712345@gmail.com

Published on:

Follow Us
बेरोज़गारी से मुक्ति दिलायेगा यह औषधीय पौधा! छोटी सी जगह में आज ही शुरू करे इसकी खेती, होगी लाखो में कमाई

बेरोज़गारी से मुक्ति दिलायेगा यह औषधीय पौधा! छोटी सी जगह में आज ही शुरू करे इसकी खेती, होगी लाखो में कमाई, आज के समय बेरोजगारी की समस्या बहुत बड़ी है, ऐसे में हर कोई चाहता है कि वह कम निवेश में ज्यादा कमाई करे. अगर आप भी कुछ ऐसा ही सोच रहे हैं तो तुलसी की खेती आपके लिए एक बेहतरीन विकल्प हो सकती है। तुलसी की खेती करने के लिए न तो बहुत बड़े खेत की जरूरत होती है और न ही ज्यादा निवेश की. आप चाहे तो अपने खेत पर तुलसी उगा सकते हैं या फिर किसी कंपनी से कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग करके भी अच्छी कमाई कर सकते हैं।

ये भी पढ़े- पशुपालकों को मालामाल बना देंगी इस खास नस्ल की बकरी, कम समय में होगी छप्पर फाड़ कमाई, जाने डिटेल

हजार रुपये लगाकर लाखों में कमाई

तुलसी की खेती औषधीय पौधों की श्रेणी में आती है. औषधीय पौधों की खेती के लिए न तो बहुत बड़े खेत की जरूरत होती है और न ही ज्यादा निवेश की. आप अपनी जमीन पर तुलसी उगा सकते हैं या फिर किसी कंपनी से जमीन लेकर कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग भी कर सकते हैं। कई कंपनियां आजकल औषधीय पौधों की खेती कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग पर करवा रही हैं। तुलसी की खेती शुरू करने के लिए आपको कुछ हजार रुपये ही खर्च करने होंगे, लेकिन मुनाफा लाखों में हो सकता है।

तीन महीने में तीन लाख की कमाई

तुलसी को हमेशा पूजा-पाठ से जोड़कर देखा जाता है, लेकिन औषधीय गुणों वाली तुलसी की खेती करके अच्छी आमदनी भी कमाई जा सकती है। तुलसी की कई किस्में होती हैं, जिनमें यूजेनॉल और मिथाइल सिनेमेट मौजूद होते हैं. इनका इस्तेमाल कैंसर जैसी गंभीर बीमारियों की दवा बनाने में किया जाता है। एक हेक्टेयर जमीन में तुलसी उगाने में करीब 15 हजार रुपये का खर्च आता है, लेकिन तीन महीने के बाद ही ये फसल फिर से तीन लाख रुपये तक में बिक जाती है।

ये भी पढ़े- गेंदे की खेती कर किसान बन रहे मालामाल! सरकार की तरफ से मिल रहा 28 हजार रुपये का अनुदान

कैसे करें तुलसी की खेती

तुलसी की खेती के लिए Sandy loam soil यानी रेतीली-दोमट मिट्टी सबसे अच्छी मानी जाती है। इसकी खेती के लिए सबसे पहले जून-जुलाई महीने में बीजों के माध्यम से नर्सरी तैयार की जाती है। नर्सरी तैयार होने के बाद इसकी रोपाई की जाती है। रोपाई करते समय कतारों के बीच 60 सेमी और पौधों के बीच 30 सेमी का फासला रखा जाता है। तुलसी का पौधा 100 दिनों में तैयार हो जाता है, जिसके बाद इसकी तुड़ाई शुरू हो जाती है।

इन कंपनियों के साथ जुड़कर कमाई कर सकते हैं

पतंजलि, डाबर, बैद्यनाथ जैसी आयुर्वेदिक दवा बनाने वाली कंपनियां तुलसी की कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग करवा रही हैं. ये कंपनियां अपनी तरफ से फसल को खरीदती हैं। इसके अलावा तुलसी के बीज और तेल की भी बाजार में काफी डिमांड है। तुलसी का तेल और बीज हर दिन नए रेट पर बिकते हैं।

अगर आप तुलसी की खेती करना चाहते हैं तो कृषि विभाग से संपर्क कर सकते हैं। कृषि विभाग की तरफ से तुलसी की खेती करने के लिए ट्रेनिंग और सब्सिडी भी दी जाती है।