पशुपालकों को हर महीने लाखों का मुनाफा देगी गाय की ये नस्ल, एक ब्यात में देती है 3000 लीटर दूध, जानिए क्या है इसकी खासियत

By Jitendra kumar

Published on:

Follow Us
लाल सिंधी गाय

पशुपालकों को हर महीने लाखों का मुनाफा देगी गाय की ये नस्ल, एक ब्यात में देती है 3000 लीटर दूध, जानिए क्या है इसकी खासियत देश में गायो की बहुत सी नस्ले पायी जाती है। जिसमे से कुछ नस्ले अधिक दूध देने के लिए काफी प्रख्यात है। ऐसे में किसान अच्छी नस्लों की गायो का पालन कर बेहतर मुनाफा कमा रहे है। आज हम आपको एक ऐसी गाय की नस्ल के बारे में बताने जा रहे है जो प्रति ब्यात लगभग 3000 लीटर दूध देने की क्षमता रखता है। आइये जानते है इस गाय की खासियत के बारे में।

यह भी पढ़े :- स्मार्टफोन बाजार में बवंडर मचाने आ रहा Samsung का धाकड़ स्मार्टफोन, नए लुक और दमदार फीचर्स के साथ उड़ाएगा लड़कियों की नींद 

अधिकतर लाल रंग की होती है लाल सिंधी गाय जानिए इसकी खासियत

आपको जानकारी के लिए बता दे की इस प्रजाति की अधिकतर गाये लाल रंग की होती है ,इसीलिए इसका नाम लाल सिंधी गाय पड़ा. इस गाय का रंग भी लाल बादाम है, जबकि आकार में यह लगभग साहीवाल गाय की तरह दिखाई देती है. इसके सींग जड़ों के पास बहुत मोटे होते हैं और बाहर निकलने वाले सिरे पर ऊपर की ओर उठे होते हैं.जो इसको ओर भी आकर्षक बनाता है।

यह भी पढ़े :- सरेआम Janhvi Kapoor ने ऐसे जगह खोसा मोबाइल , एक्ट्रेस का ये Video हुआ वायरल

सामान्य गायो के शरीर की तुलना में आकार में बड़े होते है इसके कूबड़

आपको बात दे की इस नस्ल की गायो के शरीर की तुलना में इसके कूबड़ आकार में बड़े होते हैं या यूं कहें कि ये बैलों के समान ही होते हैं. इस नस्ल की गाय का रंग लाल होता है. जैसा की नाम से भी पता चलता है.हालांकि यह लाल रंग हल्के से लेकर गहरे लाल रंग तक का हो सकता है. यह गाय अधिक दूध देती है।

पशुपालकों को हर महीने लाखों का मुनाफा देगी गाय की ये नस्ल, एक ब्यात में देती है 3000 लीटर दूध, जानिए क्या है इसकी खासियत

image 262

क औसतन 350 किलोग्राम तक का होता है लाल सिंधी गाय का वजन

बता दे की इस नस्ल की गायों में बीमारियों से लड़ने की क्षमता अधिक होती है जिस वजह से पशुपालक इस गाय का पालन करना पसंद करते हैं. क्योकि उनको इस गाय के पालन करने में उपचार का खर्च बच जाता है। इसका वजन भी आम गायों से अधिक औसतन 350 किलोग्राम तक का होता है. यह गाय दिखने में काफी अच्छी दिखती है।

जानिए किन राज्यों में किया जा रहा लाल सिंधी गाय का पालन

आपको जानकारी के लिए बता दे की पहले यह गाय सिर्फ सिंध इलाके (पकिस्तान) में पाई जाती थीं, लेकिन अब देश के अलग अलग राज्यों में जैसे की पंजाब, हरियाणा, कर्नाटक, तमिलनाडु, केरल और ओडिशा में भी पायी जाती हैं. हालाँकि अभी भी इस गाय की संख्या भारत में काफी कम है. लेकिन यह गाय के दूध बहुत ही स्वादिष्ट और सेहत के लिए लाभदायक है।

पशुपालकों को हर महीने लाखों का मुनाफा देगी गाय की ये नस्ल, एक ब्यात में देती है 3000 लीटर दूध, जानिए क्या है इसकी खासियत

image 261

एक ब्यात में 1,500 से 3,000 लीटर दूध उत्पादन कर सकती है लाल सिंधी गाय

दोस्तों अगर हम लाल सिंधी गायों की विशेष्ताओँ के बारे में बात करे तो इनकी सबसे पहली विशेषताओं में से एक उनकी असाधारण दूध देने की क्षमता है. यह अधिक दूध देने क्षमता रखती है। जानकारी के लिए बता दे की.औसतन, एक लाल सिंधी गाय प्रति स्तनपान चक्र में 1,500 से 3,000 लीटर दूध का उत्पादन कर सकती है. दूध की यह उच्च उपज उन्हें डेयरी फार्मिंग के लिए और अधिक जरूरी बनती है और उनके आर्थिक महत्व में योगदान करती है. जिससे किसानो को अच्छा मुनाफा प्राप्त होता है।

गर्म और उष्णकटिबंधीय जलवायु के अनुकूल अपने आप को ढाल लेती है लाल सिंधी गाय

आपको जानकारी के लिए बता दे की लाल सिंधी गाय गर्म और उष्णकटिबंधीय जलवायु के अनुकूल अपने आप को ढाल लेती है ऐसे में इस अधिक तापमान वाले इलाको में भी इस गाय का पालन किया जा सकता है। ये गाये सिंध, भारत और अन्य उष्णकटिबंधीय क्षेत्रों में आसानी से रह सकती है. जैसे गर्म, आर्द्रता और मुश्किल परिस्थितियों के लिए गाय की इस नस्ल को विकसित किया है. ऐसी जलवायु में फलने-फूलने की उनकी क्षमता उन्हें चुनौतीपूर्ण मौसम पैटर्न वाले क्षेत्रों के लिए उपयुक्त बनाती है. इस गाय के पालन से किसानो को होगा तगड़ा लाभ।

Jitendra kumar

दुनिया में हो रही हलचल को सत्यता और सटीकता से आप तक पहुंचाना, जनता की आवाज को बुलंद बनाना ही पत्रकार का धर्म है. एक सच्चे पत्रकार को अपने धर्म की रक्षा करनी चाहिए। चूँकि धर्म की जो रक्षा करता है. धर्म उसकी रक्षा करता है. (मैं 2 वर्षो से डिजिटल मीडिया में कार्यरत हूँ। मुझे ऑटोमोबाइल, टेक्नोलॉजी और किसान समाचार में विशेष रूचि है)