TATA ग्रुप अब भारत में करेगा iPhone का निर्माण, विस्ट्रॉन का अधिग्रहण, ढाई साल के भीतर शुरू होगी मैन्युफैक्चरिंग

By सचिन

Published on:

Follow Us
TATA ग्रुप अब भारत में करेगा iPhone का निर्माण, विस्ट्रॉन का अधिग्रहण, ढाई साल के भीतर शुरू होगी मैन्युफैक्चरिंग

टाटा ग्रुप भारत में जल्द आईफोन बनाने की शुरुआत करने जा रहा है। आईफोन मैन्युफैक्चरिंग कंपनी विस्ट्रॉन के बोर्ड ने टाटा ग्रुप को अपनी भारतीय यूनिट बेचने की मंजूरी दी है। टाटा ग्रुप ने आईफोन को असेंबल करने वाले विस्ट्रॉन प्लांट का अधिग्रहण करने की डील फाइनल हो चुकी है। भारत में जल्द ही आईफोन का प्रोडक्शन और असेंबल टाटा समूह के द्वारा किया जाएगा।

ये भी पढ़े – Oppo A79 5G स्मार्टफोन भारत में हुआ लॉन्च, 50MP कैमरा और 5000 mAh की पावरफुल बैटरी, कीमत मात्र इतनी

ढाई साल के भीतर मैन्युफैक्चरिंग शुरू होगी

सूचना एवं प्रौद्योगिकी राज्य मंत्री राजीव चंद्रशेखर ने सूचना दी है कि ढाई साल के भीतर आईफोन की मैन्युफैक्चरिंग भारत में शुरू हो जाएगी। विस्ट्रॉन फैक्ट्री कर्नाटक के साउथईस्ट में है। विस्ट्रॉन फैक्ट्री की वैल्युएशन करीब 600 मिलियन डॉलर का है। इस डील को लेकर करीब एक साल से बातचीत चल रही थी। वर्तमान में विस्ट्रॉन का भारतीय प्लांट अपनी 8 प्रोडक्शन लाइनों में आईफोन की मैन्युफैक्चरिंग कर रहा है। टाटा के अधिग्रहण के बाद विस्ट्रॉन पूरी तरह से भारतीय मार्केट छोड़ देगा।

tata 1

ये भी पढ़े – Realme ने लॉन्च किया कम कीमत में 5G स्मार्ट फ़ोन, जाने कीमत और तगड़े फीचर्स

विस्ट्रॉन भारत क्यों छोड़ रही है

मिली जानकारी के मुताबिक़, एपल की शर्तों के तहत प्रॉफिट हासिल करने में चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा था। विस्ट्रॉन का कहना है कि ऐपल की तरफ से फॉक्सकॉन और पेगाट्रॉन के मुकाबले ज्यादा मार्जिन लिया जा रहा है। इसीलिए विस्ट्रॉन ने भारत में अपनी आईफोन असेंबली फैक्ट्री बेचने का यह फैसला लिया

tat 2

2008 में विस्ट्रॉन भारतीय बाज़ार में आयी थी

ताइवान की कंपनी विस्ट्रॉन ने 2008 में भारतीय बाज़ार में कदम रखा। उस समय कंपनी कई डिवाइसेस के लिए रिपेयर फैसिलिटी प्रोवाइड कराती थी। वर्ष 2017 में कंपनी ने अपने ऑपरेशंस को एक्सपेंड करते हुए ऐपल के लिए आईफोन का प्रोडक्शन शुरू किया था। बता दें की ऐपल प्रॉडक्ट्स को असेंबल करने वाली तीन ताइवानी फर्मों में से सिर्फ विस्ट्रॉन भारत छोड़ रही है। फॉक्सकॉन और पेगाट्रॉन ने भारत में अपनी प्रोडक्शन जारी रखेगी।