Soyabean Ki Kheti: सोयाबीन की खेती का यह है सही समय, कृषि वैज्ञानिकों ने दी सलाह

By charpesuraj4@gmail.com

Published on:

Follow Us

Soyabean Ki Kheti: सोयाबीन की खेती हमारे देश के कई हिस्सों में बड़े पैमाने पर की जाती है. लेकिन कई किसान भाईयों को ये नहीं पता होता कि आखिर बेहतर किस्म के सोयाबीन के बीज की बुवाई किस समय करनी चाहिए. सोयाबीन की खेती में सही समय पर बीज बोने से फलियों का विकास अच्छा होता है और पैदावार भी अच्छी होती है. वहीं अगर गलत समय पर बुवाई कर दी जाए तो फसल पर माहिर और रोगों का ज्यादा हमला हो सकता है, जिससे नुकसान उठाना पड़ सकता है.

यह भी पढ़े- Rashifal: 11 जून का दिन इन राशियों के लिए रहेगा बेहद शुभ, जानिए कौनसी है वो

कृषि वैज्ञानिकों की सलाह (Krishi वैज्ञानिकों Ki Salah)

इसलिए जरूरी है कि सोयाबीन की खेती करते समय बीज की बुवाई सही समय पर ही की जाए. हमारे देश भारत के मध्यप्रदेश राज्य के इंदौर सोयाबीन संस्थान के कृषि वैज्ञानिकों ने देश के разных क्षेत्रों (razne kshetron) में बीज बोने के बारे में किसानों को सलाह दी है, जिससे उत्पादन और मुनाफा बढ़ाने में मदद मिलेगी.

सोयाबीन की खेती के लिए सही समय (Sahi Samay)

देश के मध्य और मैदानी इलाकों के लिए वैज्ञानिकों का कहना है कि सोयाबीन की बुवाई का सही समय 20 जून से 5 जुलाई के बीच का होता है. मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश, गुजरात, राजस्थान, पंजाब, हरियाणा, महाराष्ट्र, बुंदेलखंड जैसे इलाकों में इस दौरान बुवाई करनी चाहिए. प्रति हेक्टेयर 65 किलो तक बीज की बुवाई करें और कतारों के बीच 45 सेंटीमीटर तक का फासला रखें.

पूर्वी और उत्तरी क्षेत्रों के लिए (Purvi Aur Uttari Kshetron Ke Liye)

देश के पूर्वी और उत्तरी विस्तार की बात करें तो बिहार, उड़ीसा, छत्तीसगढ़, पश्चिम बंगाल, नागालैंड, असम, हिमाचल प्रदेश, मणिपुर, झारखंड, सिक्किम जैसे राज्यों में 15 जून से 30 जून के बीच बुवाई कर सकते हैं. इन इलाकों में प्रति हेक्टेयर 55 किलो बीज की बुवाई करें और बुवाई से पहले बीज का उपचार जरूर करें. कतारों के बीच 45 सेंटीमीटर का फासला बनाए रखें.

दक्षिणी क्षेत्रों के लिए (Dakshini Kshetron Ke Liye)

देश के दक्षिणी विस्तार में तमिलनाडु, महाराष्ट्र, तेलंगाना, आंध्र प्रदेश, कर्नाटक आदि राज्यों में 15 जून से 30 जून के बीच बुवाई का सही समय होता है. इन इलाकों में 60 से 65 किलो बीज प्रति हेक्टेयर और कतारों के बीच 30 सेंटीमीटर का फासला रखें.

उम्मीद है ये जानकारी आपके लिए उपयोगी साबित होगी (Umid Hai Ye Jankari Aapke Liye Upyog Saabit Hogi)

इस लेख में हमने आपको सोयाबीन की खेती के सही समय के बारे में विस्तृत जानकारी दी है. उम्मीद है कि यह जानकारी आपके काम आएगी. इस आर्टिकल को ज्यादा से ज्यादा किसान भाइयों और अपने दोस्तों के साथ शेयर करें.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि हमारे ब्लॉग ikhedutputra.com पर किसानों को हमेशा खेती की विभिन्न फसलों के उन्नत बीजों से लेकर उत्पादन और उनसे होने वाली आमदनी और मुनाफे तक की हर जानकारी दी जाती है. इसके अलावा, किसानों के हित में सरकार द्वारा चलाई जा रही विभिन्न योजनाओं और खेती के नए तरीकों के बारे में भी आपको यहां काफी कुछ जानने को मिलेगा.