Swastik: शुभता का प्रतीक है हल्दी से बना स्वस्तिक, जानिए हल्दी से स्वास्तिक बनाने के फायदे

By charpesuraj5@gmail.com

Published on:

Follow Us

Swastik: हिंदू धर्म में सदियों से पूजा-पाठ और मांगलिक कार्यों में स्वास्तिक बनाने की परंपरा चली आ रही है. धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, इसे बनाने का विशेष महत्व माना जाता है. आज हम आपको बताएंगे हल्दी से बने स्वास्तिक के फायदों के बारे में. ज्योतिष के अनुसार, हल्दी से स्वास्तिक बनाने से कई लाभ प्राप्त होते हैं.

यह भी पढ़े- Vastu Tips: घर में अलमारी रखने के क्या है नियम, वास्तु अनुसार जानिए

सकारात्मकता का संचार (Sankatmakta ka Sanchar):

हिंदू धर्म में किसी भी मांगलिक कार्य की शुरुआत स्वास्तिक बनाने से मानी जाती है. नया घर हो, नई गाड़ी या कोई शुभ कार्य, स्वास्तिक जरूर बनाया जाता है. ज्योतिष अनुसार, स्वास्तिक को बहुत ही शुभ माना जाता है.

घर में सुख-समृद्धि का आगमन (Ghar mein Sukh-Samriddhi ka Aagman):

हल्दी से बना स्वास्तिक न सिर्फ घर में सुख-समृद्धि लाता है बल्कि इससे भी कई लाभकारी पहलू जुड़े हुए हैं. आइए ज्योतिष के अनुसार हल्दी से बने स्वास्तिक के फायदों के बारे में विस्तार से जानते हैं.

कहां बनाएं स्वास्तिक? (Kahan Banayen Swastik):

सबसे पहले ये सवाल उठता है कि घर में स्वास्तिक कहां बनाना चाहिए? ज्योतिष के अनुसार, घर के मुख्य द्वार पर हल्दी से स्वास्तिक बनाना शुभ होता है. इसके अलावा, घर के मंदिर में भी हल्दी से स्वास्तिक बनाना शुभ माना जाता है. ऐसा करने से पूरे घर में सकारात्मक ऊर्जा का प्रवाह बना रहता है.

स्वास्थ्य लाभ (Swasthya Labh):

ज्योतिष के अनुसार, घर में हल्दी का स्वास्तिक बनाने से कई तरह के хрони (chronic) रोग दूर होते हैं. इसलिए, अगर आपके घर में कोई लंबे समय से बीमार चल रहा है, तो घर में जरूर हल्दी का स्वास्तिक बनाएं.

यह भी पढ़े- Khet Talab Yojana: सिंचाई की समस्या दूर करे, सरकार दे रही है खेतों में खेत तालाब बनवाने सब्सिडी, जानिए

लक्ष्मी और कुबेर देव का आशीर्वाद (Lakshmi aur Kuber Dev ka Aashirwad):

घर के मुख्य द्वार पर हल्दी का स्वास्तिक बनाने से मां लक्ष्मी की कृपा बनी रहती है. साथ ही, घर में सकारात्मक ऊर्जा का प्रवाह भी बना रहता है.

नकारात्मक ऊर्जा का नाश (Nकारात्मक ऊर्जा ka Naash):

घर के मंदिर में हल्दी का स्वास्तिक बनाने से नकारात्मक ऊर्जा दूर होती है. पूजा के वक्त भी नकारात्मक ऊर्जा दूर करने के लिए स्वास्तिक बनाना शुभ होता है.