Sariya Rate Today: सरिया के दामों में आई फिर गिरावट, जानिए आपके शहर के नये भाव

0
255
Sariya Rate Today

Sariya Rate Today: सरिया के दामों में आई फिर गिरावट, जानिए आपके शहर के नये भाव, आज आपके शहर के रेत सीमेंट गिट्टी के रेट घरेलू निर्माण सामग्री: अगर आप भी अपना घर बनाने का सपना देखते हैं तो उसे जल्द ही बनवा लें। चूंकि सीमेंट-रेत-बैरी-ईंट की कीमतों में सभी प्रकार की निर्माण सामग्री कम है। हालांकि जानकारी के मुताबिक बारिश के बाद इनके दाम तेजी से बढ़ सकते हैं। लाठी, जिसकी कीमत में काफी गिरावट आई है, की कीमतें बढ़ने लगी हैं और इसके साथ ही बारिश के बाद अन्य सामग्रियों के दाम भी बढ़ेंगे. आपको बता दें कि इस महीने से कुछ जगहों पर बार की कीमतों में चार हजार रुपये प्रति टन की बढ़ोतरी हुई है। अब इसकी कीमतें और भी ज्यादा जा सकती हैं।

मार्च-अप्रैल में बढ़े थे दाम

हम बताएंगे कि इस साल मार्च-अप्रैल में भवन निर्माण सामग्री-ईंट-सीमेंट-सीमेंट के दाम अपने चरम पर थे, लोग घर बनाने से पहले इनके दाम देखते थे. हालांकि मई से जून के बीच सरिया, सीमेंट जैसी सामग्री की कीमतों में भारी गिरावट आई। इस महीने के पहले सप्ताह तक रीबर और सीमेंट की कीमतों में गिरावट जारी रही। बार का बाजार भाव लगभग आधा हो गया है, जिससे बाजार में इसकी मांग तेजी से बढ़ रही है।


जैसे-जैसे मांग बढ़ी, वैसे-वैसे कीमत भी बढ़ी

विक्रेताओं का कहना है कि निर्माण सामग्री के कम दाम के कारण लोग तेजी से नए घर बना रहे हैं और मरम्मत कर रहे हैं। इसके लिए धन्यवाद, छड़ सहित सभी निर्माण सामग्री की मांग बढ़ रही है। लेकिन बढ़ती मांग के कारण अब इनकी कीमतें बढ़ने लगी हैं।कारोबारियों का कहना है कि इन वस्तुओं की कीमतों में तेजी के पीछे मानसून भी एक कारण है। कारण यह है कि बरसात का मौसम शुरू होते ही नदियां पूरी तरह से भर जाती हैं, जिससे रेत की कमी हो जाती है। वहीं अगर बारिश के कारण भट्ठा का काम बंद हो जाता है तो ईंट उत्पादन भी प्रभावित होता है. इससे बरसात के दिनों में इन सामग्रियों के दाम स्वाभाविक रूप से बढ़ जाते हैं।

अब बार की कीमत घट रही है

मार्च में कुछ जगहों पर बार की कीमत 85 हजार रुपये प्रति टन तक पहुंच गई। लेकिन अभी यह शहरों में 47,200 रुपये से 58,000 रुपये प्रति टन के दायरे में बिक रही है। इस महीने की बात करें तो पहले हफ्ते के दौरान इसकी कीमतों में इजाफा हुआ। न केवल स्थानीय, बल्कि ब्रांडेड बार की कीमतों में भी हाल के महीनों में काफी गिरावट आई है।
सरकार ने अतीत में कई फैसले लिए हैं, जिसमें गेहूं के निर्यात पर प्रतिबंध, चावल की छड़ियों पर आयात शुल्क में वृद्धि, घरेलू कीमतों में बेतहाशा वृद्धि को रोकने के लिए शामिल हैं। इनका असर सीधे बाजार पर दिख रहा है। आने वाले बरसात के मौसम में निर्माण धीमा हो जाता है, और कीमतों में भी ऐसा ही होता है।
बार की कीमतें हर दिन गिर रही हैं। मार्च में रिकॉर्ड स्तर पर पहुंचने वाली कीमतें अब आधी हो गई हैं। मार्च में शिरची बार की कीमत 85 हजार रुपये प्रति टन थी। जून के पहले सप्ताह में ये घटकर 45,000 रुपये से 50,000 रुपये प्रति टन पर आ गए। न सिर्फ लोकल बार बल्कि बड़ी कंपनियों की ब्रांडिंग भी सस्ती हो गई है। ब्रांडेड बार के दाम भी गिरकर 80-85,000 रुपये प्रति टन पर आ गए। मार्च में इनके दाम दस लाख रुपए प्रति टन तक पहुंच गए थे।

सस्ते भवन निर्माण सामग्री के कारण घर बनाने की लागत में कमी आई है। निर्माण उद्योग में रेत, सीमेंट, छड़ और ईंटों का सबसे अधिक उपयोग किया जाता है। दरअसल, किसी भी संरचना की नींव सलाखों पर निर्भर करती है। इसके बाद यह दो महीने पहले रिकॉर्ड ऊंचाई पर पहुंच गया। खाना पकाने और गर्म करने वाले तेल सहित कई अन्य खाद्य और अखाद्य वस्तुओं की कीमतें भी आसमान छू गई हैं। ऐसे में केंद्र सरकार ने बाजार नीति में हस्तक्षेप किया। कई वस्तुओं पर कर और शुल्क कम कर दिए गए, जबकि निर्यात को रोकने के लिए कई वस्तुओं पर सीमा शुल्क बढ़ा दिया गया। सरकार ने कैंडी बार पर एक्सपोर्ट ड्यूटी भी बढ़ा दी है। इसका सीधा असर घरेलू बाजार में कीमतों में कमी के रूप में दिखा।