वास्तु शास्त्र : रसोई का चकला-बेलन आपको और आपके परिवार को बना सकता कंगाल….

0
279
वास्तु शास्त्र : रसोई का चकला-बेलन आपको और आपके परिवार को बना सकता कंगाल....

वास्तु शास्त्र : रसोई का चकला-बेलन आपको और आपके परिवार को बना सकता कंगाल….

Rasoi Ka Chakla Belan Apko Bana Sakta Kangal:- वास्तु शास्त्र में हमारे जीवन से जुड़ी हर चीज के बारे में बातें लिखी गई हैं। अगर इन बातों का पालन किया जाए तो घर में सुख-समृद्धि की वृद्धि होती है। साथ ही परिवार भी खुश रहता है। आज हम आपको वास्तु के अनुसार किचन के टिप्स देंगे।

वास्तु में किचन को लेकर कई नियम शामिल हैं। खासकर रसोई में इस्तेमाल होने वाले चकला-बेलन के मामले मे अगर आप किचन में टूटे हुए चकला-बेलन का इस्तेमाल करते हैं तो ऐसा करना आपको और आपके परिवार को कंगाल बना सकता है।

image 299

टूटा हुआ चकला-बेलन दरिद्रता की निशानी

दरअसल, टूटा हुआ चकला-बेलन दरिद्रता की निशानी है। वास्तु शास्त्र में कहा गया है कि अगर आपके किचन में टूटा हुआ पहिया और सिलेंडर है तो उसे तुरंत घर से निकाल दें। यह गरीबी को बढ़ावा देता है। इससे आपको धन हानि होने की संभावना है। टूटे चकला-बालन को घर से तुरंत हटा दें लेकिन ध्यान रखें कि चकला-बेलन खरीदने के लिए हर दिन शुभ नहीं माना जाता है।

चकला-बेलन कब खरीदना शुभ होता

वास्तु शास्त्र के अनुसार शनिवार और मंगलवार को चकला-बेलन खरीदना शुभ नहीं होता है। अगर आप इस दिन किचन में नया रोलिंग पिन लाते हैं तो आपको दरिद्रता का सामना करना पड़ सकता है। चकला-बेलन खरीदने के लिए बुधवार का दिन सबसे शुभ माना जाता है। वास्तु शास्त्र के अनुसार इस दिन खरीदारी करने से वास्तु दोष नहीं होता है। इससे घर में सुख-समृद्धि बनी रहती है और दुख दूर रहते हैं।

वास्तु के अनुसार किचन का अहम हिस्सा चकला-बेलन

वास्तु के अनुसार चकला-बेलन किचन का अहम हिस्सा हैं। रोटी बनाने के बाद तुरंत धोकर साफ जगह पर रख दें. कई बार हम सिलेंडर को बेसिन में ही छोड़ देते हैं जो कि गलत है। वास्तु में इस बात का भी जिक्र है कि हमें किस तरह के रोलिंग पिन का इस्तेमाल करना चाहिए। बताया गया है कि स्टील का चकला और बेलन सबसे अच्छा होता है। लकड़ी के पहिये में फफूंदी की समस्या होती है, जो हमें बीमार कर सकती है। यह तेल भी ज्यादा सोखता है। इसलिए स्टील रोलिंग पिन का इस्तेमाल करें।

Disclaimer : यहां दी गई सभी जानकारी सामाजिक और धार्मिक मान्यताओं पर आधारित है। Betul Samachar इसकी पुष्टि नहीं करता है। इसके लिए आपको किसी विशेषज्ञ की सलाह जरूर लेनी चाहिए।