Ramnani समाज के लोगो के रोम-रोम में बसते हैं राम, पुरे तन पर गुदवाते है राम, जाने इसके पीछे की अद्बुद्ध कहानी…

By Alok

Published on:

Ramnani समाज के लोगो के रोम-रोम में बसते हैं राम, पुरे तन पर गुदवाते है राम, जाने इसके पीछे की अद्बुद्ध कहानी…आज हम आपको ऐसे समाज के लोगो के बारे में बताने जा रहे है जिनके बारे में सुन आप भी हो जाओगे दंग आईये जाने ‘रामनामी’ समाज के लोगो के बारे में…

Ramnani समाज के लोगो के रोम-रोम में बसते हैं राम, पुरे तन पर गुदवाते है राम, जाने इसके पीछे की अद्बुद्ध कहानी…

image 262

यह भी पढ़े : – लोहे जैसे मजबूती से TATA के चिथड़े उड़ाने आयी Mahindra की मजबूत SUV, स्टैंडर्ड फीचर्स के साथ मिलता है शक्तिशाली इंजन, जाने कीमत

रामनामी जनजाति के लोग पुरे तन पर गुदवाते है राम नाम

हम आपको बता दे की श्री राम की नगरी अयोध्या में श्री राम लला की मूर्ति स्थापना की जोरो सोरो से तैयारी शुरू है और वही एक तरफ रामनामी जनजाति के लोग सुर्खियों में बने हुए है कहा जाता है की ये लोग श्री राम के इतने बड़े भक्त होते है की पुरे तन पर श्री राम का नाम गुदवाते है मीडिया रिपोर्ट की जानकारी के मुताबिक हम आपको बता दे की ये लोग केवल मुँह और हाथ पर नहीं बल्कि पूरे शरीर पर भगवान श्रीराम के नाम गुदवा ते है रामनामी जनजाति वाले लोग अपने शरीर पर गूदे राम की वजह से अलग ही पहचान आ जाते है।

image 263

यह भी पढ़े : – Creta को चकना चूर करने आयी Nissan की लक्जरी लुक कार, स्टैंडर्ड फीचर्स के साथ मिल रहा शक्तिशाली इंजन, जाने कीमत

रामनामी जनजाति के लोग 1890 के दशक से शरीर पर गुदवा रहे है राम नाम

हम आपको मीडिया रिपोर्ट के अनुसार आपको बता दे की रामनामी जनजाति के लोग 1890 के दशक से अपने शरीर पर राम नाम को लिखवाना शुरू किया था वही इस जनजाति का की स्थापना की श्रेय परशुराम को जाता है रामनामी जनजाति के लोग भगवान श्रीराम में अटूट श्रद्धा रखते हैं माना जाता है कि भारत में रामनामी जनजाति के करीब 1 लाख लोग रहते हैं।

जाने क्यों गुदवाते है रामनामी जनजाति के लोग पुरे शरीर पर राम नाम

हम आपको बता दे की रिपोर्ट के मुताबिक परशुराम ने ही अपनी जनजाति में शरीर पर राम नाम लिखवाने की शुरुआत की थी दावा किया जाता है कि उन्हें राम मंदिर में जाने से रोका गया था तब उन्होंने ऐसा किया था एक दूसरे दावे में बताया गया कि अपनी जनजाति के हिंदू धर्म से दूर होता देख परशुराम ने ऐसा किया था वहीं, एक अन्य दावे में कहा जाता है कि रामनामी जनजाति 1890 से भी पुरानी है और मुगलों ने जब इस जनजाति के लोगों को भगवान राम से अलग करने की कोशिश की थी तो उन्होंने अपने पूरे शरीर पर प्रभु श्रीराम का नाम लिखवा लिया था।

image 264

रामनामी जनजाति के लोगो का पहना

बात की जाए रामनामी जनजाति के लोगो के पहनावे की तो ये लोग पुरे शरीर पर राम नाम गुदवाने के साथ राम नाम का कपडा ओढ़े रहते है और ये लोग सर पर मोर पंख से बना मुकुट पहनते है।

Ramnani समाज के लोगो के रोम-रोम में बसते हैं राम, पुरे तन पर गुदवाते है राम, जाने इसके पीछे की अद्बुद्ध कहानी…

कहा रहते है रामनामी जनजाति के लोग जाने

हम आपको बता दे की रामनामी जनजाति के लोग भारत में कहां-कहां रहते हैं, इसकी कोई आधिकारिक जानकारी तो नहीं है पर रिपोर्ट के मुताबिल ये लोग छत्तीसगढ़ में महानदी नदी के किनारे बसे हैं इसके अलावा रामनामी जनजाति के कुछ लोग ओडिशा और महाराष्ट्र में भी रहते है।

Alok