गेहूं की ये किस्म देश के कई क्षेत्रों के लिए क्रांतिकारी एक हेक्टेयर में 5 टन से अधिक का होगा उत्पादन

0
463
गेहूं की ये किस्म देश के कई क्षेत्रों के लिए क्रांतिकारी एक हेक्टेयर में 5 टन से अधिक का होगा उत्पादन

Pusa Soft Wheat 1 : IARI ने विकसित की पहली नरम गेहूं की किस्म।एक हेक्टेयर में 5 टन से अधिक का होगा उत्पादन। भारत दुनिया के शीर्ष गेहूं उत्पादक देशों में शुमार हैं। इसके तहत भारत में कई प्रकार के गेहूं की किस्मों का उत्पादन किया जाता है, लेकिन इन सबके बीच भारत में अभी तक गेहूं की नरम किस्म का उत्पादन नहीं होता है। इसी कड़ी में भारत के लिए वर्ष 2022 उपलब्धियों से पूर्ण होने जा रहा है। गेहूं की इस नरम किस्म का नाम पूसा सॉफ्ट व्हीट 1 (HD 3443) रखा गया है। गेहूं की इस नरम किस्म को देश के कई क्षेत्रों के लिए क्रांतिकारी माना जा रहा है।

गेहूं की ये किस्म देश के कई क्षेत्रों के लिए क्रांतिकारी एक हेक्टेयर में 5 टन से अधिक का होगा उत्पादन

देश के कई क्षेत्रों के लिए क्रांतिकारी मानी जा रही गेहू की ये किस्म

असल में भारत के प्रमुख Agricultural Research Institute Indian Agricultural Research Institute (IARI) ने इस क्षेत्र में एक महत्वपूर्ण कामयाबी अर्जित की है। जिसके तहत IARI ने देश की पहली नरम गेहूं की किस्म विकसित करने में सफलता प्राप्त की है। पहले भारत इस गेहूं को विदेशों से चार हजार रुपये प्रतिक्विंटल की दर से भुगतान से मंगवाता था। लेकिन अब वैज्ञानिकों ने देश के पहली नरम गेहूं की किस्म विकसित कर ली है। गेहूं की इस नरम किस्म का नाम Pusa Soft Wheat 1 (HD 3443) रखा गया है। गेहूं की इस नरम किस्म को देश के कई क्षेत्रों के लिए क्रांतिकारी माना जा रहा है।

यह भी पढ़े :- Potato Cultivation :आलू की उन्नत खेती की सम्पूर्ण जानकारी,इन किस्मो से होगी 350 – 400 क्विंटल प्रति हेक्टेयर पैदावार

गेहूं की ये किस्म देश के कई क्षेत्रों के लिए क्रांतिकारी एक हेक्टेयर में 5 टन से अधिक का होगा उत्पादन

125 दिन में तैयार हो जाएगी और एक हेक्टेयर में उत्पादन भी 5 टन से अधिक

IARI की तरफ से विकसित की गई गेहूं की नरम किस्म कई विशेषताओं से पूर्ण हैं। IARI की तरफ से विकसित की गई गेहूं की यह नरम किस्म एक हेक्टेयर में 5 टन से अधिक का उत्पादन देने में सक्षम है। भारत में यह 125 दिन में तैयार हो जाएगी और उत्पादन भी एक हेक्टेयर में 5 टन से अधिक होगा। वहीं विशेष बात यह है कि देश की पहली गेहूं की नरम किस्म में प्रोटीन की मात्रा 11.5 फीसदी तक है। वहीं ग्लूटेन की मात्रा 8.9 है, जो बेहद कम मानी जाती है।

यह भी पढ़े :- Grapes Farming : अंगूर की खेती में एक बार लगाए पैसा बार-बार होगी कमाई एक एकड़ जमीन में 10 टन का प्रोडक्शन

गेहूं की ये किस्म देश के कई क्षेत्रों के लिए क्रांतिकारी एक हेक्टेयर में 5 टन से अधिक का होगा उत्पादन

गेहूं की ये किस्म देश के कई क्षेत्रों के लिए क्रांतिकारी एक हेक्टेयर में 5 टन से अधिक का होगा उत्पादन

cake, biscuit जैसे खाद्य पदार्थों को बनाने के लिए प्रयोग होता है

भारत अभी तक गेहूं की इस नरम किस्म को विदेशों से उच्च कीमतों में मंगवाता था। लेकिन अब वैज्ञानिकों ने देश के पहली नरम गेहूं की किस्म विकसित कर ली है। गेहूं की नरम किस्म का सबसे अधिक प्रयोग बेकरी में किया जाता है। मसलन बेकरी में तैयार होने वाले कई cake, biscuit जैसे खाद्य पदार्थों को बनाने के लिए गेहूं की नरम किस्म की जरूरत होती है,लेकिन भारत में अभी तक गेहूं की नरम किस्म का उत्पादन ही नहीं होता था।