Ola इलेक्ट्रिक के लिए संकट का विषय Ipo की तैयारी में जुटी Ola अधिकारियों ने Ola से तोड़ा रिश्ता, जाने क्या था वजह

By Manu Verma

Published on:

इलेक्ट्रिक स्कूटर बनाने वाली देश की दिग्गज कंपनी ओला इलेक्ट्रिक (Ola Electric) में सबकुछ ठीक नहीं है. खबर है कि कंपनी के दो सीनियर लेवल के एग्जीक्यूटिव्स ने Ola का साथ छोड़ दिया है. मीडिया रिपोर्ट्स में बताया गया है कि Ola इलेक्ट्रिक से अपना रिश्ता तोड़ने वालों में प्लानिंग एंड स्ट्रैटजी के हेड स्लोकर्थ दास और पार्टनरशिप एंड कॉरपोरेट अफेयर्स के हेड सौरभ शारदा शामिल हैं. दोनों पिछले कई सालों से ओला से जुड़े रहे हैं और कंपनी के फाउंडर भाविश अग्रवाल (Bhavish Aggarwal) के करीबी माने जाते हैं.

ola s1 air left side view0

2 और इस्तीफों की खबर


ओला इलेक्ट्रिक के प्रवक्ता का कहना है कि दोनों अधिकारियों ने 7 साल से अधिक समय तक कंपनी में अपनी सेवा दी है और हम उन्हें भविष्य के लिए शुभकामनाएं देते हैं. खबर ये भी है दास और सौरभ के अलावा दो और बड़े अधिकारियों ने कंपनी छोड़ दी है. हालांकि, Ola ने इस खबर का खंडन किया है. स्लोकर्थ दास ने 2015 में ओला कैब्स में मैनेजर के रूप में अपना करियर शुरू किया था और तीन साल में वह फ्लीट मैनेजमेंट के हेड बन गए थे. करीब 3 साल पहले उन्हें ओला इलेक्ट्रिक की कोर टीम का हिस्सा बनाया गया था.

तब छलका था भाविश का दर्द


सौरभ शारदा भी ओला इलेक्ट्रिक की फाउंडिंग टीम का हिस्सा थे. मालूम हो कि पिछले साल Ola इलेक्ट्रिक के कई बड़े अधिकारियों ने इस्तीफा दे दिया था. कंपनी के कई स्कूटरों में आग लगने की घटनाएं सामने आने के बाद यह डेवलपमेंट देखने को मिला था, लेकिन करीब एक साल से शांति थी. अब एकदम से दो बड़ी अधिकारियों ने कंपनी छोड़ दी है और 2 अन्य के इस्तीफे की खबर सामने आ रही है. कुछ वक्त पहले, भाविश अग्रवाल ने एक इंटरव्यू में कहा था कि बिजनेस की यात्रा में कई बार लोग आपसे सहमत नहीं होते. आपके न चाहते हुए भी लोग अलग हो जाते हैं. इन शब्दों के साथ उन्होंने कंपनी में मची भगदड़ पर अपना दुखा जाहिर किया था.

Ola S1 Air1

आईपीओ लाने की है तैयारी


सॉफ्टबैंक समर्थित ओला इलेक्ट्रिक अगले साल 700 मिलियन डॉलर तक के आईपीओ की तैयारी कर रही है. कंपनी ने अगले साल की शुरुआत में अपने संभावित स्टॉक मार्केट डेब्यू का प्रबंधन करने के लिए गोल्डमैन सैश और कोटक महिंद्रा कैपिटल को नियुक्त किया है. 2021 के अंत में बिक्री शुरू होने के बाद से, ओला 32% हिस्सेदारी के साथ भारत के ई-स्कूटर मार्केट का लीडर बन गई है. एथर एनर्जी, टीवीएस मोटर और हीरो इलेक्ट्रिक जैसी कंपनियां ओला को टक्कर देने की लगातार कोशिश कर रही हैं. ओला इलेक्ट्रिक ने मार्च में खत्म हुए पिछले वित्तीय वर्ष में 33.5 करोड़ डॉलर का रिवेन्यु हासिल किया था.

Manu Verma