पूर्व डिप्टी कलेक्टर निशा बांगरे ने शुरू की आमला से सीएम हाउस तक न्याय पद यात्रा, 9 अक्टूबर से करेगी आमरण अनशन

By दिगम्बर बर्डे

Published on:

Follow Us
पूर्व डिप्टी कलेक्टर निशा बांगरे ने शुरू की आमला से सीएम हाउस तक न्याय पद यात्रा, 9 अक्टूबर से करेगी आमरण अनशन

बैतूल समाचार: पूर्व डिप्टी कलेक्टर निशा बांगरे ने कहा, दुनिया की कोई ताकत मुझे चुनाव लड़ने से नहीं रोक सकती आगामी विधानसभा चुनाव मैं नामांकन भरूंगी भी,और चुनाव लडूंगी भी इसके बाद भी यदि द्वेष पूर्ण भावना के द्वारा मेरा नामांकन खारिज किया जाता है या मेरा इस्तीफा अस्वीकार करके चुनाव लड़ने से रोका जाता है तो अपने अधिकारों से वंचित रहकर जीवित रहने से बेहतर मैं आमरण अनशन कर अपने प्राण त्यागना पसंद करूंगी। निशा बांगरे के इस वीडियो मैसेज ने राजनीतिक गलियारों में सनसनी मचा दिया।

डिप्टी कलेक्टर निशा बांगरे अपने पहले मैसेज में कह चुकी है अभी भी सरकार से कुछ सन्देश नहीं मिलने के कारन उन्होंने आमला से मुख्यमंत्री आवास तक पैदल यात्रा निकाली है। जिसमे वह अपने साथियो के साथ पैदल चल रही है। उन्होंने इस पैदल यात्रा को न्याय पद यात्रा का नाम दिया है। पद यात्रा के बाद निशा बांगरे ने 9 अक्टूबर से भोपाल में आमरण अनशन करने का फैसला किया है।

जानिए निशा बांगरे ने क्या कहा

निशा बांगरे ने कहा शासन के द्वारा बैक डेट पर उन्हें नोटिस जारी किए गए।1 महीने तक उनके इस्तीफा पर कोई निर्णय नहीं लिया गया। और इसके बाद जब वह न्याय के लिए हाई कोर्ट की शरण में गई तो कोर्ट को भी गुमराह करते हुए शासन ने हाई कोर्ट के आदेश के बाद भी GAD के सर्कुलर के विपरीत उनके खिलाफ अपने घर के कार्यक्रम में सम्मिलित होने के कारण विभागीय जांच शुरू कर दिया और फिर उसी जांच का हवाला देकर उनके इस्तीफा को अस्वीकार कर दिया। इस प्रकार उन्हें तरह-तरह से प्रताड़ित किया जा रहा है।

यह भी पढ़े:- भीमपुर ब्लॉक के प्राइमरी स्कूल की तीसरी कक्षा की बालिका को शिक्षिका ने पीटा, बेसुध हालत में अस्पताल में करवाया भर्ती

दलित समुदाय की महिलाओ में आक्रोश

निशा बांगरे ने बताया कि इस तरीके से एक दलित महिला अधिकारी को बेवजह प्रताड़ित करने से संपूर्ण दलित समुदाय, आदिवासी समुदाय और सभी महिलाओं में आक्रोश है तथा एक अधिकारी को इस तरीके से परेशान करने से तथा बैक डेट में नोटिस देने से और बेवजह विभागीय जांच शुरू किए जाने से अंदर खाने अधिकारी वर्ग भी व्यथित हैं और शासन के इस कृत्य से उनके मन में भी दुख और असंतोष है। उन्होंने आज अपने वीडियो मैसेज से आमला की जनता को यह स्पष्ट संदेश दे दिया कि वह आगामी विधानसभा चुनाव लड़ने वाली है। हालांकि उन्होंने यह नहीं बताया कि वह किस पार्टी से चुनाव लड़ेंगे अथवा क्या वह निर्दलीय चुनाव लड़ने वाली हैं।