अब विदेश छोड़ भारत में दी जायेंगी NCAP रेटिंग, भारत सरकार का बड़ा फ़ैसला, 1 अक्टूबर से भारत में होगी कार की सेफ़्टी रेटिंग की प्रक्रिया

By Manu Verma

Published on:

ऑटो न्यूज़ डेस्क,भारत एनसीएपी की शुरुआत के साथ, वाहनों को अब वयस्क और बाल सुरक्षा रेटिंग के लिए अपने वाहनों को विदेश भेजने की आवश्यकता नहीं होगी। अब घरेलू स्तर पर निर्मित वाहनों की सुरक्षा रेटिंग देश में ही भारत एनसीएपी के अनुसार दी जा सकेगी। ताकि आप यह गारंटी दे सकें कि दुर्घटना की स्थिति में कौन सा वाहन बच्चों और बुजुर्गों के लिए सुरक्षा की दृष्टि से सुरक्षित रहेगा।

hyundai exter 5 star ncap rating 1

केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने आज बहुप्रतीक्षित भारत न्यू कार असेसमेंट प्रोग्राम (भारत एनसीएपी) लॉन्च किया। इससे भारत में सड़क सुरक्षा के साथ-साथ सुरक्षित वाहनों का निर्माण किया जा सकेगा। इसे अक्टूबर 2023 से देशभर में लागू किया जाएगा। संयुक्त राज्य अमेरिका, चीन, जापान और दक्षिण कोरिया के बाद, भारत अब कार दुर्घटना परीक्षण करने वाला पांचवां देश बन गया है। इससे ग्राहक अब देश में मौजूद वाहन विकल्पों में से अपने लिए सबसे बेहतर विकल्प चुन सकेंगे।

दूसरी ओर, यह 3,500 किलोग्राम तक के वाहनों के लिए सुरक्षा मानकों के बारे में जागरूकता बढ़ाने में भी मदद करेगा। भारत एनसीएपी के लॉन्च के बाद वैश्विक बाजार में मेड इन इंडिया वाहनों की धमक पहले से ज्यादा देखने को मिलने की संभावना है। इसका सीधा असर निर्यात में बढ़ोतरी के तौर पर देखा जा सकता है. साथ ही देश में सड़क दुर्घटनाओं और उनसे होने वाले नुकसान में भी कमी आने की संभावना है. मारुति सुजुकी, महिंद्रा और टोयोटा जैसी कार निर्माताओं ने सरकार के इस कदम को घरेलू ऑटो उद्योग को सही दिशा में ले जाना बताया है।

ये भी पढ़ें- Mahindra ने एक बार फिर मार्केट में लॉंच किया Bolero का Electric एडिशन, इसमें मिलेंगे अधिक एडवांस फ़ीचर्स

jpg 31

भारत एनसीएपी योजना के तहत देश में मौजूद ऑटोमोबाइल कंपनियां अपने वाहनों का सुरक्षा स्कोर प्राप्त करने के लिए ऑटोमोटिव इंडस्ट्री स्टैंडर्ड (एआईएस) 197 के अनुसार परीक्षण कर सकेंगी। इसके अलावा, भारत एनसीएपी देश के शोरूम में किसी भी वाहन का परीक्षण करने का अधिकार स्वयं सुरक्षित रखता है। ताकि वाहनों की सुरक्षा को लेकर कोई लापरवाही न हो। कार का परीक्षण होने के बाद, इसे वयस्क और बच्चों की सुरक्षा के लिए रेटिंग प्राप्त होगी।

Manu Verma