Nakshatra : आद्रा नक्षत्र और धधकती गर्मी क्या झारखंड में इस बार होगा अच्छा मानसूनम, जानिए क्या कहता है नक्षत्र

By charpesuraj5@gmail.com

Published on:

Follow Us

Nakshatra: झारखंड में बीते कुछ दिनों में भीषण गर्मी पड़ी है। पलामू में तो तापमान 45 डिग्री तक पहुंच गया। इस तेज गर्मी में एसी और कूलर भी जवाब दे रहे हैं, लेकिन यही गर्मी किसानों के लिए एक शुभ संकेत भी है। माना जाता है कि इस दौरान जितनी ज्यादा जमीन गर्म होगी, उतनी ही अच्छी बारिश होगी। दरअसल, पलामू जिला रेन शैडो ज़ोन में आता है। यहां हर साल कम ही बारिश होती है। इससे किसानों की फसलों को भारी नुकसान होता है।

यह भी पढ़े- Swapna Shastra: स्वप्न में शिवलिंग देखने का क्या होता है संकेत, जानिए स्वपन शास्त्र क्या कहता है इस बारे में

लेकिन इस साल भीषण गर्मी के बाद पलामू में अच्छी बारिश के संकेत मिलने शुरू हो गए हैं। बता दें कि 22 जून से आद्रा नक्षत्र शुरू होने जा रहा है। इससे 14 से 15 दिन पहले धरती का गर्म होना शुभ बारिश का संकेत माना जाता है। ये किसानों के लिए बहुत अच्छी खबर है।

क्या कहते हैं जानकार?

काली मंदिर के पुजारी श्याम बाबा का कहना है कि यहां के लोगों में ये मान्यता है कि मृगशिरा नक्षत्र में धरती का गर्म होना अच्छी बारिश का संकेत होता है।

वह आगे बताते हैं कि मृगशिरा नक्षत्र 14 से 15 दिन का होता है, जिसे लोग बोलचाल में मृगदाह नक्षत्र कहते हैं। इस मौसम में धरती का गर्म होना अच्छी बारिश का संकेत है। पिछले दो-तीन दिनों से पलामू की जनता चिलचिलाती गर्मी झेल रही है, जो इस बात का संकेत है कि आने वाले दिनों में पलामू में अच्छी बारिश होगी। ऐसा कई बार पहले भी देखा गया है कि मृगदाह नक्षत्र में धरती गर्म होने के कारण पलामू में अच्छी बारिश हुई है।

पर्यावरणविद भी सहमत

पर्यावरणविद कौशल किशोर जायसवाल ने स्थानीय 18 को बताया कि अगर हम 2000 से 2023 तक पलामू में बारिश के आंकड़ों को देखें, तो साल 2006 में लगभग 13 मिमी बारिश हुई थी। वहीं, हर साल कम बारिश होने से किसानों को काफी नुकसान होता है। इस साल भी अच्छी बारिश के आसार हैं, क्योंकि मृगदाह नक्षत्र में धरती का गर्म होना अच्छी बारिश का संकेत माना जाता है।

यह भी पढ़े- Aastha: भगवान राम का नाम जपने के चमत्कारी फायदे, जानिए

मौसम विभाग ने भी दिया है ये संकेत

झारखंड के मौसम विभाग ने भी इस बार राज्य में मजबूत मानसून का संकेत दिया है। अप्रैल, मई और जून महीने में भी बारिश होना इस बात का संकेत दे रहा है कि इस बार राज्य में अच्छी खासी बारिश होगी।