Moti Ratna: इन लोगो के लिए मोती धारण करना होता है बेहद शुभ, जानिए इसके ज्योतिषीय महत्व, फायदे और धारण करने की विधि

By charpesuraj4@gmail.com

Published on:

Follow Us

Moti Ratna: ज्योतिष शास्त्र में रत्नों का बहुत महत्व होता है. ये रत्न जातक की जन्मपत्री में मौजूद ग्रहों की शुभता बढ़ाने का काम करते हैं. लेकिन, कोई भी रत्न धारण करने से पहले उसके नियमों, शुभ और अशुभ प्रभावों के बारे में जानना बहुत जरूरी होता है. इसलिए रत्न धारण करने से पहले किसी विद्वान ज्योतिषी से सलाह जरूर लेनी चाहिए. आज हम आपको मोती रत्न के बारे में बताने जा रहे हैं. यह लेख आपको बताएगा कि मोती किन राशियों के लिए शुभ है, किनके लिए अशुभ और इसे धारण करने के क्या नियम हैं.

यह भी पढ़े- Laxmi Narayan Yog 2024: मिथुन राशि में लक्ष्मी-नारायण राजयोग से इन राशियों की चमकेगी किस्मत, जानिए इसके बारे में…

मोती रत्न किस ग्रह से संबंधित है?

ज्योतिष के अनुसार, मोती रत्न का संबंध चंद्र ग्रह से होता है. जिन लोगों की कुंडली में चंद्र कमजोर होता है, उन्हें मोती धारण करने की सलाह दी जाती है. ऐसा माना जाता है कि यह रत्न मन में नकारात्मक विचार रखने वाले लोगों के लिए भी फायदेमंद होता है.

मोती रत्न धारण करने के लाभ

  • जल्दी क्रोध करने वाले लोगों के लिए मोती धारण करना लाभदायक होता है.
  • मोती पहनने से त्वचा संबंधी रोगों और मानसिक शांति पाने में लाभ मिलता है.
  • मोती धारण करने से व्यक्ति का आत्मविश्वास और मनोबल बढ़ता है.

किन राशियों के लिए मोती रत्न शुभ है?

मोती धारण करने से पहले जन्मपत्री में चंद्र की स्थिति को जानना बहुत जरूरी है. ज्योतिष के अनुसार, मेष, कर्क, वृश्चिक और मीन राशि के जातकों के लिए मोती शुभ फल देता है.

मोती रत्न कब और कैसे धारण करें?

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, मोती को सोमवार और पूर्णिमा के दिन धारण करना शुभ माना जाता है. वहीं, 7-8 रत्ती का मोती धारण करना चाहिए. इसे धारण करने के लिए मोती को गंगाजल या कच्चे दूध में 10 मिनट के लिए डुबोकर रखें और फिर पहनें. मोती धारण करने से पहले ओम चंद्राय Namah मंत्र का 108 बार जप करें.

मोती रत्न किस उंगली में धारण करें?

ज्योतिष के अनुसार, जिस हाथ से आप अधिक काम करते हैं, उसकी छोटी उंगली में मोती धारण करना शुभ फल देता है. मोती को धारण करने के लिए किस धातु का प्रयोग करना चाहिए, इस बारे में आपको किसी विद्वान ज्योतिषी से सलाह लेनी चाहिए. लेकिन, आमतौर पर मोती को चांदी में धारण किया जाता है. इस बात का ध्यान रखें कि मोती को कभी भी नीलम या गोमेद के साथ नहीं पहनना चाहिए.