मात्र जरा सी कीमत में पेश है नई चमचमाती TATA Nano, झंन्नाट फीचर्स और चार्मिंग लुक के साथ माइलेज भी रिकॉर्ड तोड़

By दिगम्बर बर्डे

Published on:

मात्र जरा सी कीमत में पेश है नई चमचमाती TATA Nano

मात्र जरा सी कीमत में पेश है नई चमचमाती TATA Nano, झंन्नाट फीचर्स और चार्मिंग लुक के साथ माइलेज भी रिकॉर्ड तोड़ भारतीय ऑटोमोबाइल मार्केट नेनो ने एक बार फिर से अपनी धाक जमाने की कोशिश की है। परिवार के साथ लंबी यात्रा करने के लिए यह कार सबसे बेस्ट साबित हुई है। छोटी सी लखटकिया कार को हर किसी ने काफी पसंद किया है। इस कार को पेश करने के लिए रंतन टाटा ने अहम भूमिका निभाई है।

यह भी पढ़िए-Tata Punch को पंछी की तरह उड़ाएगी Maruti की धाकड़ गाड़ी, 35kmpl माइलेज के साथ दमदार इंजन और फीचर्स भी कंटाप

टाटा नैनो कार है झन्नाट

image 389

टाटा नैनो की कार बेहद कम कीमत में आपको मिल जाती है। साल 2009 में हर किसी भारतीय के घर पर यह कार हो इसके लिए टाटा मोटर्स कंपनी ने टाटा नैनो की कीमत इतनी कम रखी थी कि हर वर्ग के लोग इस कार को खरीदकर अपने सपनो का साकार कर सके। हालांकि, कुछ साल में यह कार मार्केट से गायब हो गई जिसके चलते कंपनी ने प्रोडक्शन कम कर दिया। वहीं, BS-IV उत्सर्जन मानदंड लागू होने के बाद नैनो कार को बंद करने का फैसला किया गया। एक बार फिर टाटा नैनो की नई पेशकश पेश है।

रतन टाटा की नई टाटा नैनो है लप्पक

Launch हुई⚡nano new model 2022, tata nano electric car, nano price 2022,  005PlayGyan - YouTube

रतन टाटा की यह नैनो कार गरीबो के लिए मसीहा बनकर आई है। रतन टाटा के द्वारा लॉच की जाने वाली इस कार का मकसद ही यही था कि मिडिल क्लास के लोगो के लिए यह वरदान बनकर साबित हो। अपने सपने को साकार करने के लिए रतन टाटा ने स्कूटर को कार में तब्दील कर दिया। जिससे पूरा परिवार एक साथ बैठकर अराम के साथ सफर कर सके। आल्टो से भी कम कीमत के साथ पेश हुई टाटा नैनो उन आम लोगो के लिए थी जो कार के सपने तो देखते है। आप इस कार को ढाई लाख में खरीदकर अपने कार खरीदने के सपने को साकार कर सकते है।

यह भी पढ़िए-MT का पारा गरम करने आ रही Hero की नई Karizma, दमदार इंजन के साथ मिलेंगे शानदार स्मार्ट फीचर्स

image 665

कई लोग ऐसे है जो कार खरीदने में सक्षम नहीं है। हालांकि, रतन टाटा का यह सपना सच होकर भी बुरी तरह बिखर गया। टाटा नैनो के नाकाम होने की वजह इसके टैग को माना गया। तमाम एक्सपर्ट यह मानते हैं कि लोगों ने गरीबों की कार के टैग या लखटकिया कार के नाम को हीन भावना से जोड़ कर देखा। यही वजह है कि नैनो कार फ्लॉप हो गई। अब इस बार रतन टाटा की नैनो क्या कमाल करती है।

दिगम्बर बर्डे