Masik Durgashtami: मासिक दुर्गाष्टमी पर मां दुर्गा को करें प्रसन्न, चढ़ाएं ये शुभ चीजें, जानिए

By charpesuraj5@gmail.com

Published on:

Follow Us

Masik Durgashtami: हिंदू धर्म में मां दुर्गा की पूजा का विशेष महत्व है. हर महीने शुक्ल पक्ष की अष्टमी तिथि को मासीक दुर्गाष्टमी का व्रत रखा जाता है और विधि-विधान से मां की पूजा की जाती है. इस साल ज्येष्ठ मास की अष्टमी तिथि 14 जून को रखी जाएगी. ज्येष्ठ माह की शुक्ल पक्ष की अष्टमी तिथि 13 जून रात 9:33 बजे से शुरू होकर 15 जून रात 12:03 बजे तक रहेगी. मान्यता है कि मासीक दुर्गाष्टमी का व्रत रखने से भक्तों के सभी तरह के कष्ट, भय, रोग और संकट दूर होते हैं और मनोवांछित फल की प्राप्ति होती है.

यह भी पढ़े- Aaj ka Rashifal: आज 14 जून कैसा रहेगा आपका दिन, जानिए आज का राशिफल

ऐसी भी मान्यता है कि दुर्गाष्टमी के दिन कुछ खास चीजें चढ़ाने से मां बहुत प्रसन्न होती हैं और भक्तों को मनचाहा वरदान देती हैं. आइए जानते हैं कि दुर्गाष्टमी के दिन मां रानी को कौन सी चीजें चढ़ाना शुभ होता है.

मासीक दुर्गाष्टमी पर मां को अर्पित करें ये चीजें (Masik Durgashtami par Maa ko arpit karen ye cheezein)

  • खीर का भोग: मासीक दुर्गाष्टमी के दिन विधि-विधान से मां की पूजा करें और उन्हें खीर का भोग लगाएं. खीर को भोग के लिए सबसे उत्तम माना जाता है और खीर चढ़ाने से मां रानी प्रसन्न होती हैं और भक्तों पर अपार आशीर्वाद बरसाती हैं.
  • पंचामृत और शक्कर: मासीक दुर्गाष्टमी के दिन मां दुर्गा को पंचामृत और शक्कर चढ़ाया जा सकता है. कहते हैं कि देवी-देवताओं को पंचामृत और शक्कर चढ़ाने से दीर्घायु का आशीर्वाद प्राप्त होता है.
  • केला: दुर्गाष्टमी पर मां रानी की पूजा करने के बाद उन्हें केला चढ़ाना चाहिए. केला चढ़ाने से मां की कृपा से बुद्धि का विकास होता है, जो मनचाहा करियर बनाने में सहायक होता है.
  • दूध से बनी मिठाई: दुर्गाष्टमी पर मां रानी को दूध से बनी मिठाई का भोग लगाना चाहिए. ऐसा माना जाता है कि मां को दूध से बनी मिठाई चढ़ाने से धन प्राप्ति का आशीर्वाद मिलता है.

इन शुभ चीजों को चढ़ाकर आप मां दुर्गा को प्रसन्न कर सकते हैं और उनका आशीर्वाद प्राप्त कर सकते हैं. दुर्गाष्टमी के दिन सुबह जल्दी उठकर स्नान करें और स्वच्छ वस्त्र पहनें. इसके बाद पूजा स्थान की साफ-सफाई करें और चौकी पर लाल रंग का कपड़ा बिछाएं. फिर मां दुर्गा की प्रतिमा स्थापित करें और उनका ध्यान करें. इसके बाद विधि-विधान से मां की आरती करें और उन्हें भोग लगाएं.