मक्के के उन्नत बीजो को ख़रीदे सब्सिडी पर, मिल रही मक्का बीज पर 50 से 80 प्रतिशत तक सब्सिडी, जानिए

By charpesuraj4@gmail.com

Published on:

Follow Us

बरसात का मौसम आते ही खरीफ की फसलों की बुवाई शुरू हो जाती है. धान की खेती तो खरीफ की मुख्य फसल है ही, लेकिन इस सीजन में किसान मक्के की खेती करके भी अच्छी कमाई कर सकते हैं. खास बात यह है कि राज्य सरकार द्वारा मक्के की खेती करने वाले किसानों को सब्सिडी भी दी जा रही है. योजना के तहत किसानों को 8 किस्मों के मक्का बीजों पर सब्सिडी का लाभ दिया जा रहा है. ऐसे में कम लागत में मक्के की खेती कर किसान अच्छी कमाई कर सकते हैं.

यह भी पढ़े- PM Kisan Samman Nidhi: पीएम किसान सम्मान निधि योजना की 17वीं किस्त जारी, ऐसे चेक करे किस्त का स्टेटस

मक्के की उपयोगिता

सरकार मोटे अनाजों की खेती को बढ़ावा दे रही है. इसके अंतर्गत ज्वार, कोदो, कुटकी, रागी, मडुआ के साथ-साथ मक्का को भी मोटे अनाज की श्रेणी में रखा गया है. मक्के का इस्तेमाल कई तरह से किया जाता है, मक्के की रोटी बनाकर खाई जाती है, वहीं बरसात के दिनों में इसका भुट्टा भूनाकर खाया जाता है. इससे पॉपकॉर्न बनाया जाता है. इसके दानों का इस्तेमाल सब्जी, सूप, पकोड़े, टिक्की आदि बनाने में किया जाता है. इसके अलावा मक्का का इस्तेमाल बिस्कुट, ब्रेड, कुकीज, वेफर्स आदि बेकरी उत्पादों में भी किया जाता है. मक्के को पशुओं के चारे में भी शामिल किया जाता है. आजकल इसका इस्तेमाल इथेनॉल बनाने में भी किया जा रहा है. इस तरह मक्के की बाजार में अच्छी मांग होने के कारण इसकी खेती किसानों के लिए मुनाफे का सौदा साबित हो सकती है.

मक्का बीज पर कितनी सब्सिडी मिलेगी?

खबरों के अनुसार, मक्का की खेती को बढ़ावा देने के लिए सरकार खरीफ अभियान 2024 में मक्का बीज वितरण कार्यक्रम चला रही है. इसके तहत 25-25 एकड़ में क्लस्टर बनाकर खेती करने के लिए किसानों को प्रोत्साहित किया जा रहा है. विभाग ने 4493 कलक्टर्स में मक्का बीज लगाने का लक्ष्य रखा है. इसके अलावा स्वीट कॉर्न, बेबी कॉर्न और सुगंधी मक्का की खेती को भी बढ़ावा देने की कोशिश की जा रही है. फिलहाल, किसानों को 8 किस्मों के मक्का बीजों पर सब्सिडी का लाभ दिया जा रहा है. बताया जा रहा है कि किसानों को 150 रुपये प्रति किलो के हिसाब से मक्का बीज उपलब्ध कराए जा रहे हैं. आपको बता दें कि राज्य में किसानों को मक्का बीज पर 50 से 80 प्रतिशत तक सब्सिडी दी जा रही है.

मक्के के लिए MSP लागू करने पर भी विचार

राज्य के किसानों को मक्का बीज पर सब्सिडी देने के साथ-साथ सरकार मक्के को न्यूनतम समर्थन मूल्य यानी MSP के दायरे में लाने पर भी विचार कर रही है ताकि किसानों को इसका पूरा फायदा मिल सके. ऐसे में मक्के की खेती किसानों के लिए वरदान साबित हो सकती है. फिलहाल, मक्का बीज पर सब्सिडी दी जा रही है. राज्य के जो किसान मक्का बीज पर सब्सिडी का लाभ लेना चाहते हैं, वे इसके लिए आवेदन कर सकते हैं.

साढ़े तीन महीने में तैयार हो जाती है मक्के की फसल

मक्के की फसल कम अवधि में तैयार हो जाती है. इसकी फसल तैयार होने में साढ़े तीन महीने का समय लगता है. इसके बाद खरीफ की अन्य फसलों की खेती करके किसान लाभ कमा सकते हैं. खरीफ सीजन में मक्के के साथ करेला, भिंडी, सेम जैसी सब्जियों की खेती कर किसान अपनी आमदनी बढ़ा सकते हैं.

सब्सिडी पर मक्का बीज लेने के लिए कहां करें आवेदन

बिहार में सब्सिडी पर मक्का बीज कैसे लें?

अगर आप बिहार के किसान हैं और सब्सिडी पर मक्का बीज लेना चाहते हैं, तो नीचे दिए गए तरीके को अपना सकते हैं:

सबसे पहले बिहार सरकार के कृषि विभाग के किसान डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर (DBT) की आधिकारिक वेबसाइट वेबसाइट का नाम – किसान डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर, कृषि विभाग बिहार सरकार पर जाएं.
इस वेबसाइट पर रजिस्ट्रेशन जरूरी है. अगर आप नए किसान हैं और आपका रजिस्ट्रेशन नहीं हुआ है, तो पहले रजिस्टर करें. रजिस्ट्रेशन के लिए वेबसाइट का नाम – किसान पंजीकरण लिंक पर जाएं.
रजिस्ट्रेशन हो जाने के बाद, बीज सब्सिडी योजना के लिए आवेदन करना होगा. आवेदन के लिए वेबसाइट का नाम – बीआरबीएन बिहार लिंक पर जाएं.
याद रखें कि बीज सब्सिडी योजना के लिए आवेदन करने की आखिरी तारीख हर साल बदलती रहती है, इसलिए आवेदन करने से पहले विभाग की वेबसाइट पर जरूर जांच कर लें.
सब्सिडी योजना से जुड़ी किसी भी तरह की अन्य जानकारी के लिए अपने जिले के कृषि विभाग से संपर्क करें. विभाग के अधिकारी आपकी मदद करेंगे.

यह भी पढ़े- Ladli Behna Yojana: 13वीं किस्त तो आई, पर कब मिलेंगे 3 हज़ार रुपये, जानिए

सब्सिडी के अलावा भी फायदेमंद है मक्के की खेती

मक्का की खेती सिर्फ सब्सिडी के लिए ही नहीं, बल्कि कई अन्य कारणों से भी फायदेमंद है. इसकी फसल मात्र साढ़े तीन महीने में तैयार हो जाती है. इतने कम समय में तैयार होने वाली फसल होने के कारण खरीफ सीजन में अन्य फसलों के साथ भी इसकी खेती की जा सकती है. मक्के के साथ आप करेला, भिंडी और सेम जैसी सब्जियों की खेती करके अपनी आमदनी को और बढ़ा सकते हैं.

इस तरह से आप बिहार में सब्सिडी का लाभ उठाते हुए कम लागत में मक्के की खेती कर अच्छी कमाई कर सकते हैं. साथ ही साथ, उपरोक्त जानकारी को ध्यान में रखते हुए आवेदन प्रक्रिया को पूरा करना भी आसान हो जाएगा.