मछली सिर्फ खाने के लिए नहीं, बल्कि खाद के रूप में भी करती है कमाल, जाने कैसे बनती है मछली की खाद…

By Alok Gaykwad

Published on:

Follow Us

मछली सिर्फ खाने के लिए नहीं, बल्कि खाद के रूप में भी करती है कमाल, जाने कैसे बनती है मछली की खाद, आपने अब तक यही सुना होगा कि मछली सिर्फ खाने के काम आती है, लेकिन क्या आप जानते हैं कि इसका इस्तेमाल खाद के रूप में भी किया जाता है? जी हां, कई दशक पहले जब वैज्ञानिकों ने मिट्टी के लिए जरूरी खादों की खोज नहीं की थी, तब अमेरिका में लोग मछली को खाद के रूप में इस्तेमाल करते थे. उस समय वहां के मूल निवासी (नेटिव अमेरिकन्स) मक्का उगाने के लिए जमीन तैयार करते समय मिट्टी में एक छोटी मछली रख देते थे. फिर उस पर ताजी मिट्टी डालकर मक्के के बीज बो देते थे. ऐसा माना जाता है कि पूरे सीजन में धीरे-धीरे मछली सड़ती रहती थी और फसल को पोषण मिलता रहता था. आज इसे हम मछली की खाद के नाम से जानते हैं. दुनिया के कई हिस्सों में इसका इस्तेमाल किया जाता है.

यह भी पढ़े : – ये नस्ल की गाय देती है रिकॉर्ड तोड़ दूध, इसका पालन कर खूब छापोगे पैसा, जाने अधिक जानकारी…

मछली की खाद कैसे बनती है?

यह खाद पूरी मछली, उसकी हड्डियों और त्वचा से बनाई जाती है. ऐसी मछलियों को जो खाने के लायक नहीं होतीं, उन्हें फेंकने के बजाय बगीचे के लिए पोषक तत्वों में बदलकर इस्तेमाल किया जा सकता है. इस खाद में कई तरह के पोषक तत्व होते हैं जो पौधों की जड़ों के लिए फायदेमंद होते हैं.

यह भी पढ़े : – बुलेट और जावा की हड्डी पसली एक कर देंगी महिंद्रा BSA गोल्ड स्टार 650, देखे धाकड़ इंजन और कीमत

मछली की खाद के फायदे

  • मिट्टी का स्वास्थ्य सुधारती है: मछली की खाद मिट्टी के स्वास्थ्य को बेहतर बनाती है. साथ ही पौधों को पनपने के लिए जरूरी पोषक तत्व देकर मिट्टी की उर्वरता भी बढ़ाती है.
  • पौधों को पोषण देती है: इसमें नाइट्रोजन के अलावा फॉस्फोरस और पोटेशियम जैसे अन्य पोषक तत्व भी होते हैं. सिंथेटिक खादों के उलट, यह कैल्शियम जैसे द्वितीयक पोषक तत्व भी प्रदान कर सकती है.
  • मिट्टी की बनावट मजबूत करती है: इस खाद में मौजूद कार्बनिक पदार्थ मिट्टी की संरचना को बेहतर बनाते हैं, जिससे मिट्टी पानी को बेहतर तरीके से सोख पाती है और हवा का संचार भी आसानी से हो पाता है.