Krishi Sakhis: लाडली बहाना के बाद शिवराज सिंह ला रहे कृषि सखी योजना, सालाना होंगी 60-80 हजार रुपये तक की अतिरिक्त आमदनी

By charpesuraj5@gmail.com

Published on:

Follow Us

Krishi Sakhis: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की नई सरकार में केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री के रूप में शिवराज सिंह चौहान को महत्वपूर्ण जिम्मेदारी सौंपी गई है. उन्होंने ग्रामीण विकास मंत्रालय का भी कार्यभार संभाला है. मंत्री जी ने 15 जून को दिल्ली में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस कर सरकार की उपलब्धियों के बारे में बताया और साथ ही कई नई योजनाओं का भी ऐलान किया. इनमें से एक महत्वपूर्ण योजना है – कृषि सखी योजना.

यह भी पढ़े- सरकार दे रही है ड्रैगन फ्रूट की खेती पर सब्सिडी, जानिए कैसे उठाएं फायदा

कृषि सखी योजना क्या है?

कृषि सखी योजना का लक्ष्य कृषि क्षेत्र में महिलाओं की भागीदारी को बढ़ाना है. इस योजना के तहत महिलाओं को कृषि कार्यों में सहायक के तौर पर प्रशिक्षित किया जाएगा. प्रशिक्षण प्राप्त करने के बाद ये महिलाएं “कृषि सखी” के रूप में जानी जाएंगी और खेतों में किसानों की मदद करेंगी. इससे न सिर्फ किसानों का बोझ कम होगा बल्कि महिलाओं को भी आर्थिक रूप से सशक्त बनने का अवसर मिलेगा.

योजना के लाभ

कृषि सखी बनने वाली महिलाओं को विभिन्न कृषि कार्यों की ट्रेनिंग दी जाएगी. इसके बाद वे खेतों में किसानों की कई तरह से मदद कर सकेंगी, जिससे किसानों का समय और श्रम दोनों बचेगा. साथ ही कृषि सखियों को इस काम के बदले सालाना लगभग 60-80 हजार रुपये तक की अतिरिक्त आमदनी भी हो सकेगी.

किन राज्यों में शुरू हो रही है योजना?

केंद्रीय मंत्री जी ने बताया कि कृषि सखी कार्यक्रम पहले चरण में 12 राज्यों में शुरू किया जा रहा है. इन राज्यों में गुजरात, तमिलनाडु, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, कर्नाटक, महाराष्ट्र, राजस्थान, ओडिशा, झारखंड, आंध्र प्रदेश और मेघालय शामिल हैं.

कृषि सखी के लिए चयन

कृषि सखी के रूप में उन महिलाओं को चुना जाएगा जो खेती के कामों को अच्छी तरह से समझती हों और समुदाय में विश्वसनीय मानी जाती हों. साथ ही उन्हें विभिन्न कृषि कार्यों की ट्रेनिंग भी दी जाएगी ताकि वे किसानों का कुशलतापूर्वक मार्गदर्शन कर सकें.

महिला सशक्तिकरण की पहल

शिवराज सिंह चौहान जी अपने राजनीतिक जीवन में चार बार मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री रह चुके हैं. उन्होंने हमेशा महिला सशक्तिकरण और विकास के लिए सराहनीय कार्य किए हैं. मध्य प्रदेश में उन्होंने लाडली दीदी और लाडली बहना योजना जैसी सफल पहल शुरू की थीं. अब केंद्र में कृषि सखी योजना की शुरुआत कर वे महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने और उन्हें सशक्त बनाने की दिशा में एक और महत्वपूर्ण कदम उठा रहे हैं.