करना चाहते है Police की नौकरी, तो जान लीजिये कांस्टेबल और सब इंस्पेक्टर में क्या होता है अंतर

By सचिन

Published on:

Police

Police: यदि आप भी पुलिस की नौकरी करना चाहते हैऔर यदि आप में से ज्यादातर लोग कांस्टेबल और सब इंस्पेक्टर के पद के लिए तैयारी कर रहे है तो आपको बता दें की इन दोनों पदों पर नौकरी राज्य पुलिस के साथ सेंट्रल आर्म्ड फोर्सेज में भी मिल सकती है क्योकि कांस्टेबल और सब इंस्पेक्टर यह दोनों ही सामान्य तौर पर पब्लिक सर्विस प्रोफेशनल्स हैं और यह कई न्यायालयों में एक जैसा कार्य करते हैं इसीलिए यदि आप Police की तैयारी कर रहे है तो आपको कांस्टेबल और सब इंस्पेक्टर में क्या अंतर होता है इसके बारे में अच्छे से जान लेना चाहिए|

यह भी पढ़े – Business Idea: मुर्गी पालन का बिजनेस शुरू करके आसानी से बन सकते है अमीर, सरकार भी करेगी मदद

जानिए कांस्टेबल के बारे में

Police

आपको बता दें की Police कांस्टेबल एक विशेष पद धारण करने वाला व्यक्ति होता है जो आमतौर पर आपराधिक लॉ एनफोर्समेंट में होता है और विभिन्न न्यायक्षेत्रों में कांस्टेबल का पद काफी अलग रह सकता है और आपको बता दें की दूसरे लोगों को भी यह उपाधि धारण किए बिना ही कांस्टेबल की शक्तियां दी जा सकती हैं क्योकि राज्य अपने कांस्टेबलों की भूमिकाएं परिभाषित करते हैं और इसलिए सरकारें इस पद की कैसे भरती करती हैं और उसके कर्तव्य को कैसे सौंपती हैं इसमें महत्वपूर्ण भिन्नता हो सकती है क्योकि कांस्टेबल पुलिस अधिकारियों के समान लॉ एनफोर्समेंट कार्य कर सकते हैं जिसमे ट्रैफिक संभालना या संदिग्धों को पकड़ना शामिल है या फिर वे न्यायिक जिम्मेदारियों को निभाने के लिए अदालतों के साथ मिलकर भी काम कर सकते हैं|

यह भी पढ़े – शेयर मार्केट एक्सपर्ट सुमीत बगाड़िया ने बताए ये 3 Stocks, अगले हफ्ते कर सकते है इनमें निवेश

जानिए सब इंस्पेक्टर के बारे में

आपको बता दे की सब इंस्पेक्टर को आमतौर पर कुछ Police कर्मियों की कमान संभालनी होती है और इसमें वह हेड कांस्टेबल और पुलिस चौकियों की कमान जो संभालते हैं और आपको बता दें की सब इंस्पेक्टर सबसे निचले रैंक का अधिकारी होता है जो भारतीय पुलिस नियमों और विनियमों के अनुसार अदालत में आरोप पत्र दाखिल कर सकता है और आमतौर पर यह पहला जांच अधिकारी भी होता है और वही उनके अधीनस्थ अधिकारी आरोप पत्र को दायर नहीं कर सकते है क्योकि वह केवल उनकी ओर से मामलों की जांच कर सकते हैं और कई राज्यों में एसआई स्टेशन हाउस अधिकारी हो सकते हैं और यह सब इंस्पेक्टर का पद असिस्टेंट सब इंस्पेक्टर से ऊपर होता है और पुलिस इंस्पेक्टर से नीचे होता है और आपको बता दें की अधिकांश सब इंस्पेक्टरों को सीधे पुलिस में भर्ती किया जाता है|

Police के इन दोनों पदों के बीच का अंतर

Police

कांस्टेबलों और सब इंस्पेक्टरों में सबसे पहला अंतर यह है कि कांस्टेबल राज्य और स्थानीय सरकार द्वारा दिए गए कार्य को करते हैं और वही सब इंस्पेक्टर सभी स्थानीय, राज्य और संघीय कानूनों को फॉलो करते हैं इसीलिए इसका मतलब यह होता है कि एक Police कांस्टेबल की ड्यूटी लगभग एक सब इंस्पेक्टर के समान हो सकते हैं और आपको बता दें की यदि कांस्टेबल मुख्य रूप से अदालत प्रशासन में सहायता करते हैं तो फिर एनफोर्समेंट ड्यूटी में उनकी लगभग कोई भी भागीदारी नहीं हो सकती है और वही एक सब इंस्पेक्टर तेज़ गति से गाड़ी चलाने पर चालान करने के लिए ज़िम्मेदार होता है वही दूसरी तरफ एक कांस्टेबल ऐसा नहीं कर सकता है लेकिन आपको बता दें की ऐसे राज्यों में जहां पर कांस्टेबल ज्यादातर या केवल न्यायलायिक ड्यूटी ही करते हैं तो वह ये नहीं कर सकते हैं|

सचिन