इन राशियों पर रहते है शनिदेव मेहरबान, जानिए कौनसी है और ज्योतिष में शनि देव का प्रभाव

By charpesuraj4@gmail.com

Published on:

Follow Us

वैदिक ज्योतिष में शनि देव को सबसे धीमे गति से चलने वाला और कर्मफल दाता ग्रह माना जाता है. शनि लगभग ढाई साल तक एक राशि में रहता है और फिर दूसरी राशि में गोचर करता है. इस वजह से शनि का प्रभाव जातकों के जीवन पर लंबे समय तक रहता है. शनि देव व्यक्ति को उसके कर्मों के आधार पर फल देते हैं. इन्हें ज्योतिष में न्यायाधीश के रूप में भी जाना जाता है. अच्छे कर्म करने पर शनि देव शुभ फल देते हैं और बुरे कर्म करने पर अशुभ फल देते हैं.

यह भी पढ़े- Vastu Plant: यह पौधा लता है घर में शुभता और समृद्धि, जानिए इसके फायदों और महत्व के बारे में

जब शनि की अशुभ दृष्टि किसी पर पड़ती है, तो जातक के जीवन में साढ़ेसाती, ढैय्या और महादशा का प्रभाव पड़ता है. जीवन में कम से कम एक बार हर किसी को शनि की दशा का सामना करना पड़ता है. शनि देव अच्छे कर्मों से प्रसन्न होते हैं और बुरे कर्मों से जल्दी नाराज हो जाते हैं. शनि की दशा से पीड़ित जातकों को जीवन में हर तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ता है. साढ़ेसाती के दौरान व्यक्ति तरह-तरह की समस्याओं से जूझता रहता है.

हालांकि, कुछ स्थितियां ऐसी भी बनती हैं, जब शनि की विशेष कृपा प्राप्त होती है. शनि की विशेष कृपा जातकों पर पड़ने पर व्यक्ति को जीवन में सुख-समृद्धि मिलती है. जब भी शनि राशि बदलते हैं तो वह अपनी दशा, साढ़ेसाती और ढैय्या का प्रभाव सभी राशियों पर डालते हैं, लेकिन कुछ राशियां ऐसी होती हैं जिन पर शनि का अशुभ प्रभाव कम होता है.

शनि के प्रिय राशियाँ

इन राशियों पर शनिदेव मेहरबान रहते हैं:

  • कुंभ राशि: शनिदेव दो राशियों के स्वामी होते हैं. जिनमें से एक कुंभ राशि भी है. यह शनि देव की मूल त्रिकोण राशि भी मानी जाती है. शनिदेव इस राशि के जातकों पर हमेशा अपनी कृपा बरसाते हैं. जब कुंभ राशि पर शनि की साढ़ेसाती, ढैय्या या महादशा चल रही होती है, तो उन पर ज्यादा अशुभ प्रभाव नहीं होता है. शनिदेव इन राशियों पर अपनी कृपा बनाए रखते हैं जिससे उन्हें जीवन में कभी धन की कमी नहीं रहती. इन्हें जीवन में कई तरह की उपलब्धियां हासिल होती हैं.
  • तुला राशि: शनि देव तुला राशि में उच्च के होते हैं, यानी तुला राशि पर उनका सबसे शुभ प्रभाव होता है. इस तरह से जब शनि की दशा और साढ़ेसाती चल रही होती है, तो तुला राशि पर शनि का प्रकोप ज्यादा नहीं होता है. शनि तुला राशि वालों को ज्यादा परेशान नहीं करते हैं. इस राशि के स्वामी शुक्रदेव होते हैं, जिस वजह से ऐसे जातकों के जीवन में शनिदेव की विशेष कृपा बनी रहती है. इन्हें शुभ फल प्राप्त होते हैं.
  • वृष राशि: शनिदेव वृष राशि वालों पर भी अपनी शुभता बनाए रखते हैं. इस राशि के स्वामी भी शुक्रदेव हैं और शुक्रदेव शनिदेव के मित्र माने जाते हैं. शनिदेव वृष राशि वालों के लिए तरक्की के रास्ते खोलते हैं. इनकी आर्थिक स्थिति अच्छी रहती है और इन्हें सुख, समृद्धि और धन की प्राप्ति होती है.
  • मकर राशि: मकर राशि शनिदेव की सबसे प्रिय राशियों में से एक है. इस राशि के स्वामी स्वयं शनिदेव ही हैं. शनि की साढ़ेसाती चलने पर भी मकर राशि वालों को ज्यादा परेशानी नहीं होती है. शनिदेव की पूजा करने से और शनिदोष से मुक्ति पाने के उपाय करने पर मकर राशि वालों को जल्दी प्रसन्नता प्राप्त होती है.