Heera Ratan: किसे पहनना चाहिए और किसे नहीं, जानिए हीरा रत्न धारण करने के लाभ

By charpesuraj5@gmail.com

Published on:

Follow Us

Heera Ratan: हीरे की खूबसूरती और चमक लोगों को बहुत लुभाती है. लेकिन, ज्योतिष शास्त्र के अनुसार हीरा रत्न हर किसी को शुभ फल नहीं देता. हीरा धारण करने से पहले कुछ नियमों और विधियों के बारे में जानना बहुत जरूरी होता है, वरना अशुभ फल भी मिल सकते हैं.

यह भी पढ़े- Swapna Shastra: सपने में यह चीजे देखना शुभ होता है या अशुभ, और क्या होता है इनका अर्थ जानिए

ज्योतिष शास्त्र में 9 रत्नों का वर्णन किया गया है. हर रत्न का संबंध किसी न किसी ग्रह से होता है. इन रत्नों को धारण करने से जातक की जन्मपत्री में मौजूद ग्रहों की स्थिति मजबूत होती है. आज हम आपको अनमोल हीरे के रत्न के बारे में बताने जा रहे हैं.

हीरा रत्न किन राशियों के लिए शुभ है?

कोई भी रत्न धारण करने से पहले विद्वान ज्योतिषी से सलाह जरूर लेनी चाहिए. ज्योतिष के अनुसार, हीरा रत्न शुक्र ग्रह का कारक माना जाता है. वृषभ, मिथुन, कन्या, तुला और कुंभ राशि के जातकों के लिए हीरा धारण करना शुभ माना जाता है. इसके अलावा, अगर आपकी कुंडली में शुक्र ग्रह योगकारक है, तो भी हीरा आपको शुभ फल देगा.

किन राशियों को नहीं पहनना चाहिए हीरा?

कोई भी रत्न धारण करने से पहले जन्मपत्री में ग्रहों की स्थिति को जानना बहुत जरूरी होता है. जानकारी के लिए बता दें कि मेष, मीन, कर्क और वृश्चिक राशि के जातकों के लिए हीरा धारण करना शुभ नहीं माना जाता है.

हीरा रत्न धारण करने के लाभ

  • ज्योतिष के अनुसार, हीरा धारण करने से व्यक्तित्व में निखार आता है और आकर्षण बढ़ता है.
  • वैवाहिक जीवन को सुखमय बनाने के लिए हीरा धारण करना शुभ माना जाता है.
  • मीडिया, फैशन डिजाइनिंग जैसे क्षेत्र से जुड़े लोगों के लिए हीरा धारण करना फायदेमंद होता है.
  • हीरा धारण करने से आत्मविश्वास मजबूत करने में मदद मिलती है.

हीरा कैसे धारण करें?

आप 0.50 से 2 कैरेट का हीरा धारण कर सकते हैं. ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, हीरे को सोने या चांदी में जड़वाकर धारण किया जा सकता है. शुक्ल पक्ष के शुक्रवार को सूर्योदय के बाद हीरा धारण किया जा सकता है.