इनकम टैक्स रिटर्न भरने के लिए जरूरी है फॉर्म 16! जाने इसकी भूमिका

By dipu199712345@gmail.com

Published on:

Follow Us
इनकम टैक्स रिटर्न भरने के लिए जरूरी है फॉर्म 16! जाने इसकी भूमिका

इनकम टैक्स रिटर्न भरने के लिए जरूरी है फॉर्म 16! जाने इसकी भूमिका, इनकम टैक्स रिटर्न (ITR) भरने की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है और इसके लिए सबसे जरूरी दस्तावेज फॉर्म 16 भी मिलना शुरू हो गया है. कई कंपनियों ने अपने कर्मचारियों को फॉर्म 16 भेजना शुरू कर दिया है. ये प्रक्रिया हर साल जून के महीने में की जाती है. ITR फाइलिंग में इसकी अहम भूमिका होती है, क्योंकि इसमें आपकी पूरी इनकम का लेखा-जोखा होता है, जिसे ITR फाइलिंग में भरा जाता है. आइए, इस फॉर्म के बारे में जानते हैं और समझते हैं कि इसका इस्तेमाल कैसे किया जाता है…

ये भी पढ़े- PPF खाते में 15 साल बाद भी कर सकते हैं निवेश! जानिए एक्सटेंशन के नियम

फॉर्म 16: आपकी इनकम का लेखा-जोखा

दरअसल, फॉर्म 16 आपकी इनकम के बारे में हर जानकारी बताता है, आपको कितनी सैलरी मिली है और उसमें से कितना टैक्स कट चुका है? ऐसे में ये फॉर्म ITR फाइलिंग के लिए और भी ज्यादा महत्वपूर्ण हो जाता है. फॉर्म 16 आपको आपकी कंपनी द्वारा भेजा जाता है. इस फॉर्म के जरिए कंपनी ये सबूत देती है कि आपकी सैलरी में से काटे गए टैक्स डिडक्शन एट सोर्स (TDS) को कटौती के बाद इनकम टैक्स विभाग में जमा करा दिया गया है. इसके दो भाग होते हैं.

फॉर्म 16 के दो भाग

  • पार्ट A: फॉर्म 16 के पार्ट A में आपकी और आपकी कंपनी से जुड़ी जानकारी के साथ-साथ टैक्स कटौती की जानकारी दी गई होती है. इसमें नियोक्ता का नाम और पता, नियोक्ता का TAN और PAN नंबर और कर्मचारी का PAN नंबर शामिल होता है. इतना ही नहीं, इस पार्ट में हर तिमाही में कंपनी द्वारा काटे गए टैक्स की पूरी जानकारी भी होती है, जिसे नियोक्ता द्वारा प्रमाणित किया जाता है.
  • पार्ट B: फॉर्म 16 के पार्ट B की बात करें, तो इसमें आपकी सैलरी और टैक्स में छूट से जुड़ी जानकारी होती है. इसमें आपको आपकी सैलरी का ब्रेकअप, इनकम टैक्स एक्ट के तहत मिलने वाली टैक्स छूट और धारा 80C के तहत मिल रही राहत की जानकारी दी जाती है.

ये भी पढ़े- WhatsApp ला रहा है वीडियो कॉलिंग के ये धांसू फीचर्स, चैटिंग का मजा होगा अब दोगुना

ITR फाइलिंग के लिए क्यों जरूरी है?

फॉर्म 16 एक ऐसा दस्तावेज है जिसमें इनकम टैक्स रिटर्न (ITR) भरने के लिए जरूरी सारी जानकारी होती है. हर वित्तीय वर्ष पूरा होने के बाद नियोक्ता के लिए ये जरूरी है कि वो अपने कर्मचारियों को ये फॉर्म जारी करे. फॉर्म 16 की मदद से आप आसानी से अपना इनकम टैक्स रिटर्न भर सकते हैं, क्योंकि इसमें वो सारी जानकारी होती है जो आपको इनकम टैक्स रिटर्न में देनी होती है.

घर बैठे ऐसे डाउनलोड करें फॉर्म 16 (Ghar Baithe Aise Download Karen Form 16)

हालांकि, फॉर्म 16 को TRACES वेबसाइट से डाउनलोड तो किया जा सकता है, लेकिन पूरा नहीं. TRACES का मतलब होता है TDS Reconciliation Analysis and Correction Enabled System. इसकी प्रक्रिया भी काफी आसान है.

  1. वेबसाइट www.tdscpc.gov.in/en/home.html पर जाएं.
  2. अब ‘Login’ सेक्शन में जाएं और ड्रॉपडाउन मेन्यू से ‘Taxpayer’ चुनें.
  3. यूजर आईडी, पासवर्ड और PAN से लॉग इन करें.
  4. ‘View or Verify Tax Credit’ सेक्शन में जाएं.
  5. Provisional TDS Certificate 16/16A/27D चुनें.
  6. एक पेज खुलेगा, यहां आपको नियोक्ता का टैन, वित्तीय वर्ष, तिमाही जिसके लिए अनुरोध किया गया है, दर्ज करना होगा
    ‘प्रोविजनल सर्टिफिकेट टाइप’ के ड्रॉपडाउन करके फॉर्म 16, 16A, 27D में से डाउनलोड किए जाने वाले फॉर्म का चयन करें