FD में निवेश करने से पहले, जान लीजिये एक्सिस बैंक के नए FD रेट्स, FD कराने पर इतना मिलेगा ब्याज

By सचिन

Published on:

FD

FD: यदि आप अपने पैसो को फिक्स्ड डिपॉजिट में इन्वेस्ट करना चाहते है और काफी शानदार रिटर्न पाना चाहते हैं तो आज हम आपको एक खबर बताने वाले है क्योकि आपको बता दें की प्राइवेट सेक्टर के एक्सिस बैंक ने 2 करोड़ रुपए से कम की एफडी पर एक खास समय सीमा के लिए ब्याज दरों को 10 बेसिस प्वाइंट तक घटा दिया है और आपको बता दें की बैंक ने 2 साल से लेकर 30 महीने से कम अवधि की एफडी पर ब्याज दरों को 7.20 प्रतिशत से घटा दिया है और अब उसे 7.10 प्रतिशत कर दिया है और इस बदलाव के बाद अब बैंक अपने ग्राहकों को 7 दिन से लेकर 10 साल की FD पर 3.50 प्रतिशत से लेकर 7.10 प्रतिशत तक का ब्याज दे रहा है।

यह भी पढ़े – Business Idea: इस बिज़नेस में सिर्फ एक बार लगाने होंगें पैसे, कई सालों तक होगी तगड़ी कमाई

जानिए एक्सिस बैंक के नए FD रेट्स

FD

आपको बता दें कि यह बैंक अपने ग्राहकों को 7 दिन से लेकर 45 दिन की एफडी पर 3.50 प्रतिशत और 46 से लेकर 60 दिन की एफडी पर 60 प्रतिशत और वही 61 दिन से लेकर 3 महीने की एफडी पर 4.50 प्रतिशत और 3 महीने से लेकर 6 महीने से कम अवधि की एफडी पर 4.75 प्रतिशत का ब्याज दे रहा है और वही दूसरी तरफ बैंक 6 महीने से लेकर 9 महीने की एफडी पर 5.75 प्रतिशत और 9 महीने से लेकर 1 साल से कम अवधि की एफडी पर 6 प्रतिशत और इसी के साथ 1 साल से लेकर 1 साल 4 दिन की एफडी पर 6.75 प्रतिशत ब्याज दे रहा है लेकिन 1 साल 5 दिन से लेकर 13 महीने की FD पर यह बैंक 6.80 प्रतिशत का ब्याज दे रहा है।

यह भी पढ़े – इस Share ने 2 दिन में इन्वेस्टर्स को दिया 14% का रिटर्न, जानिए क्या है तेजी की वजह

इतना मिलेगा ब्याज

FD

इसी के साथ आपको बता दें की एक्सिस बैंक अपने ग्राहकों को 13 महीने से लेकर 30 महीने से कम अवधि की FD पर 7.10 प्रतिशत का ब्याज दे रहा है और वही ब्याज दरों में इस बदलाव के बाद एक्सिस बैंक अपने सीनियर सिटीजन ग्राहकों को 7 दिन से लेकर 10 साल की एफडी पर 3.50 प्रतिशत से लेकर 7.85 प्रतिशत का ब्याज दे रहा है और आपको बता दे की एक्सिस बैंक सबसे ज्यादा ब्याज 13 महीने से लेकर 30 महीने से कम अवधि की एफडी पर अपने सीनियर सिटीजन ग्राहकों को 7.85 प्रतिशत का ब्याज दे रहा है।

Disclaimer:- इन्वेस्टमेंट करने से पहले किसी एक्सपर्ट की सलाह जरूर ले ले क्योंकि इन्वेस्टमेंट करने में नुकसान होने की संभावना होती है।

सचिन