भारत रचने जा रहा एक नया इतिहास, ISRO भारत का पहला प्राइवेट रॉकेट Vikram-S लॉन्च….

0
117
भारत रचने जा रहा एक नया इतिहास, ISRO भारत का पहला प्राइवेट रॉकेट Vikram-S लॉन्च....

Vikram-S Launching: भारत आज एक नए युग में प्रवेश करने जा रहा है, जो भारतीय अंतरिक्ष विज्ञान की रूप रेखा बदल देगा

Country’s first private rocket Vikram-S Launching : आज की तारीख भारतीय इतिहास में स्वर्ण अक्षरों में दर्ज हो जायगी। अंतरिक्ष विज्ञान के क्षेत्र में आज भारत नए युग की प्रवेश करने जा रहा है। जो देश को नई उचाईयों पर ले जाएगा। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) देश का पहला प्राइवेट रॉकेट ‘विक्रम-एस’ (Vikram-S) को लॉन्च करने वाला है। इस रॉकेट (विक्रम-एस) को हैदराबाद में स्थित स्काईरूट एयरोस्पेस (Skyroot Aerospace) कंपनी ने बनाया है। ‘विक्रम-एस’ की लॉन्चिंग आज (शुक्रवार) सुबह 11 बजकर 30 मिनट पर श्रीहरिकोटा में स्थित सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से होगी। इस मिशन का नाम “प्रारंभ” रखा गया है। ये देश की स्पेस इंडस्ट्री में प्राइवेट सेक्टर की एंट्री को भी नई ऊंचाइयां देगा। जिससे देश के अंतरिक्ष विज्ञान में प्राइवेट सेक्टर का महत्वूर्ण योगदान होगा। स्काईरूट को रॉकेट के प्रक्षेपण के लिए अधिकृत की जाने वाली पहली भारतीय कंपनी बन गई है। इस मिशन से भारत की कई उम्मीदें जुडी हुई है।

33

यह भी पढ़े :- Made In India 5G Smartphone 10 हजार से कम कीमत में रहा है विदेशी कंपनियों का मार्केट ख़त्म करने

भारत रचने जा रहा एक नया इतिहास, ISRO भारत का पहला प्राइवेट रॉकेट Vikram-S लॉन्च….

इस रॉकेट का नाम भारत के महान वैज्ञानिक और इसरो के संस्थापक डॉ. विक्रम साराभाई के नाम पर ‘विक्रम-एस’ ( Vikram-S) रखा गया है। भारतीय राष्ट्रीय अंतरिक्ष संवर्द्धन और प्राधिकरण केंद्र (Indian National Space Promotion and Authorization Center) (इन-स्पेस) के अध्यक्ष पवन गोयनका ने कहा कि यह भारत में निजी क्षेत्र (प्राइवेट सेक्टर) के लिए बड़ी छलांग है। उन्होंने स्काईरूट को रॉकेट के प्रक्षेपण के लिए अधिकृत की जाने वाली पहली भारतीय कंपनी बनने पर बधाई दी है। केंद्रीय कार्मिक (central personnel) राज्य मंत्री जितेंद्र सिंह ने कहा कि भारत इसरो के दिशानिर्देशों के तहत श्रीहरिकोटा से ‘स्काईरूट एयरोस्पेस’ के विकसित पहले निजी रॉकेट का प्रक्षेपण करके इतिहास रचने जा रहा है। और यह पल सभी भारतियों के लिए बेहद खास होगा।

यह भी पढ़े :- प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया बड़ा ऐलान देशभर में बनेंगे साढ़े 14 हजार से ज्यादा पीएम स्कूल, इसमें होंगी सभी सुविधाएं

भारत रचने जा रहा एक नया इतिहास, ISRO भारत का पहला प्राइवेट रॉकेट Vikram-S लॉन्च….

भारत के लिए बड़ा अहम पल होगा

ISRO के अनुसार विक्रम-एस सब ऑर्बिटल में उड़ान भरेगा। यह एक तरह की टेस्ट फाइल होगी, यदि भारत को इस मिशन में सफलता मिलती है तो उसका नाम प्राइवेट स्पेस के रॉकेट लॉन्चिंग के मामले में दुनिया के अग्रणी (Leading) देशों में शामिल हो जाएगा। सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से लॉन्चिंग के बाद विक्रम-एस 81 किलोमीटर की ऊंचाई पर पहुंचेगा। इस मिशन में दो घरेलू और एक विदेशी ग्राहक के तीन पेलोड को ले जाया जाएगा। विक्रम-एस उप-कक्षीय उड़ान में चेन्नई के स्टार्ट-अप स्पेस किड्ज, आंध्र प्रदेश के स्टार्ट-अप एन-स्पेस टेक और आर्मेनियाई स्टार्ट-अप बाजूमक्यू स्पेस रिसर्च लैब के तीन पेलोड ले जाए जाएंगे। यह मिशन भारतीय अंतरिक्ष विज्ञान की रूप रेखा बदल देगा। अगर भारत इस मिशन को सफलता पूर्वक पूरा कर लेता है तो भारत का नाम प्राइवेट स्पेस के रॉकेट लॉन्चिंग के मामले में दुनिया के अग्रणी देशों में शुमार हो जाएगा। भारत आज एक नए युग में कदम रखने जा रहा है, ISRO भारत का पहला प्राइवेट रॉकेट Vikram-S लॉन्च….

रॉकेट की लॉन्चिंग काम बजट में होगी

रॉकेट को कम बजट में लॉन्च करने की योजना बनाई गई है। सस्ती लॉन्चिंग के लिए इसके ईंधन में बदलाव किया गया है। इस लॉन्चिंग में आम ईंधन के बजाय LNG यानी लिक्विड नेचुरल गैस और लिक्विड ऑक्सीजन (LoX) का इस्‍तेमाल किया जाएगा। ये ईंधन किफायती होने के साथ साथ प्रदूषण मुक्त भी है। इससे पृथ्वी और अंतरिक्ष दोनों ही जगह प्रदूषण नहीं होगा। रॉकेट की सफल लॉन्चिंग को लेकर स्काईरूट एयरोस्पेस कंपनी काफी गंभीर है। और बहुत सावधानी भी बरत रही है। कंपनी ने लॉन्चिंग से पहले कई तरह से रॉकेट की टेस्टिंग की है। स्काईरूट एयरोस्पेस कंपनी ने 25 नवंबर 2021 को नागपुर स्थित सोलर इंडस्ट्री लिमिटेड की टेस्ट फैसिलिटी में अपने पहले थ्रीडी प्रिंटेड क्रायोजेनिक इंजन का सफल टेस्ट किया गया था। Vikram-S सब ऑर्बिटल में उड़ान भरेगा। Vikram-S से भारत की कई उम्मीदें जुडी हुई है।