Chanakya Niti: हर माता-पिता अपने बच्चे को सफल बनाने के लिए देंहि चाहिए यह सिख, जानिए चाणक्य निति क्या कहती है

By charpesuraj4@gmail.com

Published on:

Follow Us

Chanakya Niti: हर माता-पिता अपने बच्चे को सफल देखना चाहते हैं. अगर आप भी चाहते हैं कि आपका बच्चा जीवन में ऊंचा मुकाम हासिल करे, तो आचार्य चाणक्य की बताई गई इन बातों को उन्हें अवश्य सिखाएं. आचार्य चाणक्य एक महान अर्थशास्त्री, कूटनीतिज्ञ और राजनीतिज्ञ थे. उन्होंने अपने जीवनकाल में कई ऐसी बातें बताई थीं, जिनको अगर सही से अपना लिया जाए तो जीवन में सफलता पाने से कोई नहीं रोक सकता. आज हम आपको आचार्य चाणक्य की ऐसी ही कुछ सीखों के बारे में बताने जा रहे हैं, जिन्हें अपने बच्चों को ज़रूर सिखाएं. अगर आपके बच्चे ये बातें सीख लेते हैं, तो उन्हें सफल होने से कोई नहीं रोक पाएगा.

यह भी पढ़े- Masik Durgashtami: माँ दुर्गा को प्रसन्न करें, सुखमय जीवन पाएं, मासीक दुर्गाष्टमी पर क्या न करें, जानिए कब है मासिक दुर्गाष्टमी

ज़्यादा ईमानदारी नुकसानदेह

आचार्य चाणक्य के अनुसार, ज़रूरत से ज्यादा ईमानदार होना ठीक नहीं होता. आपने ये कहावत तो सुनी ही होगी कि “टेढ़े पेड़ को कोई नहीं काटता.” इसीलिए चाणक्य ज़्यादा ईमानदार रहने वाले लोगों को सचेत करते हैं. ऐसा इसलिए क्योंकि ज़्यादा ईमानदारी का फायदा उठाकर कुछ लोग आपका गलत इस्तेमाल कर सकते हैं.

खुद से पूछें ये सवाल

अपने बच्चों को सिखाएं कि जब भी कोई नया काम शुरू करने जाएं, तो पहले खुद से तीन सवाल ज़रूर पूछें. पहला सवाल ये कि मैं ये काम क्यों कर रहा हूँ? दूसरा सवाल ये कि इसके क्या परिणाम हो सकते हैं? और तीसरा सवाल ये कि क्या मैं इस काम में सफल हो पाऊंगा? इन तीनों सवालों के जवाब मिलने के बाद ही काम की शुरुआत करें.

डर का सामना कैसे करें

आचार्य चाणक्य के अनुसार, अपने बच्चों को डर का सामना करना सिखाएं. उन्हें ये बात समझाएं कि जब भी डर आपके पास आए, तो उस पर हमला करें और उसे खत्म कर दें. चाणक्य के अनुसार, डर से भागने से अच्छा है उसका सामना करना. अगर आप अपने डर पर जीत पा लेते हैं, तो ये आपकी निजी तरक्की में मदद करता है.

शिक्षा का महत्व

आचार्य चाणक्य के अनुसार, शिक्षा मनुष्य का सबसे अच्छा मित्र होता है. शिक्षित व्यक्ति का हर जगह सम्मान होता है. शिक्षा किसी व्यक्ति के रूप और जवानी से भी ऊपर होती है.

हार का सामना

आचार्य चाणक्य कहते हैं कि कोई भी काम शुरू करने पर हार से नहीं घबराना चाहिए. हार के डर से बीच में ही काम नहीं छोड़ देना चाहिए. जो लोग ईमानदारी और सत्यनिष्ठा से अपना काम करते हैं, वही सबसे ज़्यादा खुश रहते हैं.