भारत के ढाबों का बदलता स्वरूप, चुपके से ऐसे हो रहे ये गलत काम…

By Alok Gaykwad

Published on:

Follow Us

भारत के ढाबों का बदलता स्वरूप, चुपके से ऐसे हो रहे ये गलत काम, भारत में सड़क जाल लगातार मजबूत हो रहा है। सरकार ने कई योजनाओं के तहत हाईवे बनाए हैं। अभी भी देश के हर क्षेत्र को हर हाईवे से जोड़ने का काम जारी है। अगर आप कहीं कार से जाते हैं, तो आपको हाईवे पर ही चलना होगा। इन हाईवे की वजह से यात्रा काफी सुविधाजनक हो जाती है। आप जल्दी अपने गंतव्य तक पहुंच जाते हैं. लेकिन, अगर हम हाईवे की बात कर रहे हैं और वहां ढाबों का जिक्र नहीं हो रहा है, तो ये कैसा हो सकता है?

यह भी पढ़े : – युवा दिलो की धड़कन बनी Yamaha की ये स्पोर्टी लुक बाइक, देखे एडवांस फीचर्स और दमदार इंजन

अक्सर जब हम हाईवे से गुजरते हैं, तो सड़क के किनारे कई ढाबे दिखाई देते हैं। ट्रक ड्राइवरों के अलावा, लंबी दूरी की यात्रा करने वाले लोगों को इन ढाबों में आराम करने का मौका मिलता है। कई ढाबे भोजन के साथ-साथ सोने की व्यवस्था भी देते हैं। ऐसे में ये ढाबे यात्रियों के लिए किसी वरदान से कम नहीं हैं। हालांकि, पिछले कुछ समय में ऐसी कई रिपोर्ट्स सामने आई हैं, जहां इन ढाबों की आड़ में गलत काम किए जा रहे हैं। कुछ समय पहले ऐसे ही कुछ ढाबों का पर्दाफाश हुआ था, जहां वेश्यावृत्ति की जा रही थी। अब इन ढाबों पर चल रहे ड्रग्स के खेल का पर्दाफाश हुआ है।

यह भी पढ़े : – iphone के टापरे उड़ाने आया Nokia का कंटाप लुक 5G स्मार्टफोन, देखे शानदार फीचर्स और दमदार बैटरी

खुलेआम बिक रहा है नशा

बीकानेर में भारतमाला सड़क बनने के बाद लोगों को काफी सुविधा हुई है। जो इलाके पहले लोगों की पहुंच से बाहर थे, अब वहां आसानी से पहुंचा जा सकता है। लेकिन कहा जाता है कि हर चीज की एक कीमत चुकानी पड़ती है। भारतमाला सड़क बनने के बाद इन इलाकों में ड्रग्स का सेवन बढ़ गया है। हाईवे पर ऐसे कई ढाबे खुल गए हैं, जो खुलेआम नशे का सामान बेच रहे हैं। शराब और स्मैक अब बहुत आसानी से मिलने लगी है।

ऐसे हो रही है बिक्री

हाईवे के किनारे अवैध ढाबे खुल गए हैं। इन्हें ढाबा कहना भी गलत होगा। इन झोंपड़ीनुमा खोखों के सामने चिप्स के पैकेट टंगे रहते हैं। पानी की बोतलें भी बिकती हैं। लेकिन इनकी असली कमाई नशे के सामान बेचने से होती है। ये लोग यात्रियों को शराब और यहां तक कि ड्रग्स भी उपलब्ध कराते हैं। ऐसे में जो यात्री अक्सर इन हाईवे से गुजरते हैं, उन्हें पता होता है कि नशे के लिए किस ढाबे पर रुकना है।