Bakra Eid: बकरीद पर बकरे के चुनाव में रखें इन बातों का ध्यान…

By Alok Gaykwad

Published on:

Follow Us

Bakra Eid: बकरीद पर बकरे के चुनाव में रखें इन बातों का ध्यान, बकरीद का त्योहार नजदीक आ रहा है. इस मौके पर कुर्बानी दी जाती है, जिसमें जानवरों की बलि दी जाती है. यानी वो चीजें जिन्हें कुरान और हदीस में जायज बताया गया है. हमारे देश में ज्यादातर बकरे की ही कुर्बानी दी जाती है. वहीं, कुछ राज्यों में भेड़ की भी कुर्बानी चढ़ाई जाती है. लेकिन याद रखें कि कुर्बानी का जानवर सिर्फ ही नहीं होना चाहिए, बल्कि उसकी कुछ खास शारीरिक शर्तें भी पूरी होनी चाहिए. अगर इन शर्तों में से कोई भी एक भी शर्त पूरी नहीं होती है, तो ऐसी बकरी की कुर्बानी नहीं दी जा सकती.

यह भी पढ़े : – चुल्लू भर पेट्रोल सूंघते ही मार्केट भर हँगामा मचा देंगी ये स्पोर्टी लुक Platina बाइक, देखे दमदार इंजन और शानदार माइलेज

आइये जानते हैं कि कुर्बानी के लिए बकरे का चुनाव करते वक्त किन बातों का ध्यान रखना चाहिए

  • स्वस्थ होना चाहिए बकरा: सबसे पहली और महत्वपूर्ण बात ये है कि कुर्बानी के लिए चुना गया बकरा पूरी तरह से स्वस्थ होना चाहिए. अगर बकरा, भेड़ या भैंस बीमार है, तो उसकी कुर्बानी नहीं दी जा सकती.
  • आंखों में टेढ़ापन न हो: कुर्बानी के लिए चुने गए जानवर की आंखों में किसी भी तरह का टेढ़ापन नहीं होना चाहिए.
  • सींग टूटा हुआ न हो: बकरे, भेड़ या भैंस के सींग टूटे हुए नहीं होने चाहिए.
  • कान कटे हुए न हों: कुर्बानी के जानवर के कान कटे हुए नहीं होने चाहिए.
  • लंगड़ा न हो: बकरे, भेड़ या भैंस किसी भी पैर से लंगड़ा नहीं होना चाहिए.
  • कमजोर न हो: कुर्बानी का जानवर कमजोर नहीं होना चाहिए.

यह भी पढ़े : – Creta के लाले लगा देंगी नई Toyota Urban Cruiser Hyryder, देखे दमदार इंजन के साथ में प्रीमियम फीचर्स…

कमजोर बकरे की पहचान कैसे करें?

बकरी बेचने वाले कई बार कमजोर बकरों को भी मोटा और ताकतवर दिखाकर बेचने की कोशिश करते हैं. वो कई तरह के हथकंडे अपनाते हैं, ताकि कमजोर बकरा भी खरीदार को मोटा और स्वस्थ लगे.

  • पानी पिलाकर दिखाना: कमजोर बकरे को मोटा दिखाने के लिए उसे जरूरत से ज्यादा पानी पिलाया जाता है. आप सोच रहे होंगे कि बकरा आखिर ज्यादा पानी कैसे पी सकता है. तो बता दें कि बकरे वाले ऐसे दवा खिला देते हैं, जिससे उसका गला सूख जाता है. ऐसे में जब बकरा पानी मांगता है, तो उसे दो लीटर की बोतल मुंह में लगा दी जाती है. और बकरा एक ही घूंट में सारा पानी पी जाता है.
  • पानी पीने के बाद जुगाली न करना: ऐसे बकरों की पहचान ये है कि ज्यादा पानी पीने के बाद वो जुगाली नहीं कर पाता. अगर आप ध्यान दें, तो अगर बकरा 15-20 मिनट तक जुगाली नहीं कर रहा है, तो समझ जाइए कि उसे जरूरत से ज्यादा पानी पिलाया गया है.

इसलिए बकरीद के लिए बकरा खरीदते समय इन बातों का ध्यान जरूर रखें. ताकि आपको स्वस्थ और सही बकरा ही मिले.