अडानी ग्रुप का नया प्रोजेक्ट लाएगा रोजगार के नए अवसर, 13,000 लोगो को मिलेगी नौकरी

By दिगम्बर बर्डे

Published on:

Follow Us

अडानी ग्रुप एक और नया मैन्युफैक्चरिंग प्रोजेक्ट लगाएगा. इस प्रोजेक्ट के लगने से करीब 13,000 रोजगार भी पैदा होंगे. अडानी ग्रुप यह प्रोजेक्ट 2027 तक लॉन्च करेगा।अडानी ग्रुप अपने बिजनेस को दिन प्रतिदिन बढ़ा रहा है.एक रिपोर्ट के अनुसार अडानी ग्रुप एक और नया मैन्युफैक्चरिंग प्रोजेक्ट (solar manufacturing project) लगाएगा. इस बार अडानी ग्रुप 10 गीगावाट की क्षमता का प्रोजेक्ट लगाएगा. इस प्रोजेक्ट से कई बेरोजगार लोगो को नए रोजगार के अवसर मिलेंगे

अडानी ग्रुप वर्ष 2027 तक 10 गीगावाट की एकीकृत सौर विनिर्माण क्षमता वाला नया प्रोजेक्ट लगाएगा. कंपनी से जुड़े सूत्रों ने यह जानकारी दी है. अडानी समूह की मौजूदा सौर विनिर्माण क्षमता चार गीगावाट (एक गीगावाट बराबर 1,000 मेगावाट) की है जो की कई बेरोजगार लोगो के लिए रोजगार के अच्छे अवसर बनेगे।

यह भी पढ़े –कद्दू की यह उन्नत किस्मे बना देंगी किसानो को मालामाल, कम समय में ज्यादा मुनाफा कमाने में सहायक होगी ये किस्मे

कंपनी को मिले बड़े बड़े आर्डर

image 28

अडानी ग्रुप को मिले कई बड़े बड़े आर्डर अडानी ग्रुप की सौर ऊर्जा विनिर्माण इकाई अडानी सोलर से जुड़े सूत्रों ने कहा कि कंपनी को अगले 15 महीनों में 3,000 मेगावाट से अधिक क्षमता के निर्यात ऑर्डर मिले हुए हैं. हाल ही में कंपनी ने बार्कलेज और डॉयचे बैंक से 39.4 करोड़ डॉलर जुटाए हैं. सौर ऊर्जा उत्पादन में इस्तेमाल होने वाले सौर पैनल के विनिर्माण से जुड़ी अडानी सोलर का गठन वर्ष 2015 में किया गया था. इसने उसके अगले साल विनिर्माण शुरू कर दिया था और छह साल से भी कम समय में इसकी क्षमता तिगुनी से भी अधिक होकर चार गीगावाट हो चुकी है.यह प्रोजेक्ट बहुत ही दिलचस्प होने वाला है और साथ में कई लोगो के लिए रोजगार के नए अवसर लाने में मददगार साबित होगा।

13000 रोजगार मिलने के नए अवसर

अडानी सोलर से 13000 रोजगार मिलने की सम्भावना है अडानी सोलर इस समय गुजरात के मुंद्रा में 10 गीगावाट क्षमता की पहली पूर्ण एकीकृत एवं व्यापक सौर विनिर्माण इकाई स्थापित कर रही है.

यह भी पढ़े –TVS का यह शानदार Electric स्कूटर करेगा धमाल, लम्बी शानदार रेंज से बार-बार चार्जिंग की झंझट से दिलाएगा मुक्ति

अडानी ग्रुप का प्लान

image 29

सूत्रों के मुताबिकअडानी सोलर सौर विनिर्माण के क्षेत्र में नई प्रौद्योगिकी को अपनाएगी और इसमें कई तरह के डिजिटल बदलाव शामिल होंगे।