21 जून को दोपहर 12 बजे इस जगह पर परछाई हो जाती है गायब, जानिए कहा है वह जगह

By charpesuraj4@gmail.com

Published on:

Follow Us

मध्य प्रदेश के रायसेन जिले में घूमना अपने आप में एक अलग ही अनुभव है, खासकर तब, जब आप किसी ऐसी जगह पर खड़े हों, जिसके बारे में आपने बचपन से भूगोल की किताबों में पढ़ा है और दुनिया के ग्लोब पर देखा है. रायसेन ज़िले में ही एक ऐसी जगह है, जहां आप सूर्य के सीधे नीचे खड़े हो सकते हैं और आपका साया पूरी तरह गायब हो जाएगा!

यह भी पढ़े- Budh Uday: बुध का मिथुन राशि में उदय इन राशियों की चमकेंगी किस्मत, जानिए

अक्सर कहा जाता है कि जब किसी का साया उसका साथ छोड़ देता है, तो समझो मृत्यु का साया मंडरा रहा है. लेकिन मध्य प्रदेश के रायसेन जिले में एक ऐसी जगह है, जहां पर कुछ देर के लिए आपका साया आपका साथ छोड़ देता है, पर वहां मृत्यु का कोई भय नहीं होता! बल्कि, ये जगह अब एक लोकप्रिय सेल्फी पॉइंट बन चुकी है.

ये अनोखी जगह और कुछ नहीं बल्कि मध्य प्रदेश के रायसेन जिले के दिव्यांगज से गुजरने वाली “कर्क रेखा” (Tropic of Cancer) है. हर साल 21 जून को ठीक दोपहर 12 बजे सूर्य सीधे इस रेखा के ऊपर होता है, जिसके कारण यहां खड़े किसी भी व्यक्ति का साया पूरी तरह से गायब हो जाता है.

दरअसल, सूर्य की किरणें 21 जून को दोपहर 12 बजे कर्क रेखा पर 90 डिग्री के कोण पर सीधी पड़ती हैं, जिस कारण वहां खड़े व्यक्ति का कोई साया नहीं बनता. इसी वजह से कर्क रेखा वाले इस क्षेत्र को “नो शैडो ज़ोन” (No Shadow Zone) भी कहा जाता है.

भूगोल की किताबों में पढ़ी गई और ग्लोब पर देखी गई कर्क रेखा पर खड़े होना अपने आप में एक रोमांचकारी अनुभव है. ये रेखा मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल से 25 किलोमीटर की दूरी पर उत्तर दिशा में स्थित है. रायसेन जिले में ये रेखा दिव्यांगज और सलामतपुर के बीच से गुजरती है, जो कि स्टेट हाइवे-18 पर स्थित है.